शिक्षा मंत्री के वापसी से शिक्षकों में हर्ष,मंत्री के मार्गदर्शन में बेहतर होगी शिक्षा व्यवस्था-दिलीप



देवघर/ लंबे समय के बाद  शिक्षा मंत्री जगरनाथ महतो के झारखंड आगमन से शिक्षकों में खुशी देखी जा रही है। चाहे सरकारी शिक्षक हों या पारा शिक्षक। सभी को उम्मीद है कि मंत्री के झारखंड लौटने से उनके लंबित मामलों का निपटारा किया जाएगा।गृह जिला स्थानांतरण की बाट जोह रहे लगभग सात हजार शिक्षकों ने सोसल मीडिया के माध्यम से मंत्री महोदय का  स्वागत किया है।

शिक्षा मंत्री के झारखंड आगमन पर खुशी जाहिर करते हुए एकीकृत गृह जिला स्थानांतरण शिक्षक संघ के प्रदेश प्रभारी दिलीप कुमार राय ने कहा कि बिमार होने से पूर्व ही मंत्री महोदय ने गृह जिला स्थानांतरण को लेकर  शिक्षक दिवस के मौके पर बयान दिए थे कि शिक्षक अपने जिले में जाएंगे। साथ ही विभागीय सचिव को भी गृह जिला स्थानांतरण के लिए पत्र लिखकर कुछ सुझाव भी दिए थे लेकिन अचानक बिमार हो जाने के कारण मामला ठंडे बस्ते में चला गया। अभी हाल ही में महिलाओं को सबसे पहले गृह जिले में भेजने की बात कहे थे जिससे शिक्षकों में उत्साह का संचार हुआ। हम सभी शिक्षक उनके स्वस्थ्य जीवन की कामना करते हैं हम सभी शिक्षकों को पूरा विश्वास है कि विभाग का कार्यभार संभालने के बाद हम शिक्षकों के गृह जिला स्थानांतरण के मुद्दे का समाधान अवश्य करेंगे। क्योंकि उनके चाहने वाले उनके कार्य करने के तौर-तरीकों के कारण ही प्यार से टाईगर कहते हैं।श्री राय ने कहा कि शिक्षा मंत्री स्पष्टवादी हैं और चीजों को समझते हैं कि झारखंड राज्य के हीत में क्या कदम उठाने होंगे।

शिक्षकों के गृह जिले में जाने से शैक्षणिक माहौल बेहतर होंगे, बच्चों को उनकी मातृभाषा में शिक्षा ग्रहण करने का मौका मिलेगा। आज शिक्षक ऐसे क्षेत्रों में काम कर रहे हैं जहां कि मातृभाषा भिन्न  है , स्वाभाविक है कि शिक्षक व बच्चों को एक दूसरे की भावनाओं को समझने में दिक्कत होती है।

गृह जिला स्थानांतरण करने से सरकार पर किसी तरह का अतिरिक्त वित्तीय बोझ भी नहीं पड़ेगा। हम सभी शिक्षक माननीय मंत्री महोदय के सुखद जीवन की कामना करते हैं और हम सभी उनके निर्देशन में बेहतर शैक्षणिक माहौल बनाने का प्रयास करेंगे।

कोरोना के कहर का सबसे अधिक बुरा असर शिक्षा व्यवस्था पर पड़ा है, ग्रामीण क्षेत्रों के बच्चों के पास स्मार्टफोन का अभाव है जिसके चलते उन्हें परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।प्राथमिक शिक्षा व्यवस्था को मजबूती प्रदान करने के लिए शिक्षकों का सुविधाजनक पदस्थापना बहुत कारगर उपाय साबित होगा।

कोई टिप्पणी नहीं