नवनिर्माधिन केवीएस विद्यालय प्रांगण की कटे पेड़ की लकड़ियों की हुई हेरा फेरी



चतरा :- सिमरिया  जिले  में एक मात्र केंद्रीय विद्यालय  इन दिनों  निर्माण कार्य जारी है।वहीं उक्त प्रांगण के वेशकीमती पेड़ों की लकड़ियों को चंद लोगों की मिलीभगत से हेराफेरी का मामला सामने आया है। बता दें कि उक्त कैप्स में बने बिल्डिंग पूर्व में ट्रेनिग कॉलेज चलाया जाता था जिसमें प्रशिक्षु शिक्षकों को ट्रेनिग दी जाती थी। वहीं उक्त कैम्पस में 55 पेड़ जिसमें आम ,गमहार,लिप्ट्स का पेड़ शामिल था ।केंद्रीय विद्यालय का निर्माण कार्य शुरू होते हीं उक्त पेड़ो को काटाई की गयी। साथ हीं कुछ बने बिल्डिंग को भी जमीदोंज की गई। जबकि कटे पेड़ की वेशकीमती लकड़ियों का बोटा कुछ नजदीकी लोगों ने ठीकेदार के मिलीभगत से गायब कर अपने निजी काम यानी पलग सौफा आदि बनाई जा रही है। जबकि उक्त कटे लकड़ियों का बोटा तथा बिल्डिंग से निकले गेट खिड़की व क्रकेट को एकत्रित कर    जिला शिक्षा विभाग या केंद्रीय विद्यालय प्रबंधन को सौपना है। किंतु चंद लोगों को मिलीभगत से वेशकीमती लकड़ियों का बोटा या  कीमती सामान को गायब किया जा रहा है ।यदि यही हाल रहा तो पूर्व का बना बिल्डिंग से निकले समान व बाकी बचे लकड़ियों का नामोनिशान तक नहीं बचेगी। आखिर इसका जिमेवार कौन होगा। ठीकेदार या विभाग।


 संजय कुमार राणा

कोई टिप्पणी नहीं