अवैध बालू उठाव को लेकर ग्रामीणों ने किया विरोध प्रदर्शन



मधुपुर 11 जून:  मधुपुर प्रखंड के साप्तर गांव स्थित पतरो नदी घाट से ट्रैक्टर के जरिए बालू उठाव का ग्रामीणों ने विरोध करना शुरू कर दिया है । गुरुवार  सुबह तकरीबन दर्जन भर ग्रामीणों ने नदी घाट पहुंचकर अवैध बालू उठाव का विरोध किया और जमकर नारेबाजी की । ग्रामीणों का कहना है कि प्रत्येक दिन अवैध रूप से दर्जनों ट्रैक्टर बालू का उठाव हो रहा है । सुबह से ही दर्जनों ट्रैक्टर घाट पहुंचकर बालू उठाव में लग जाते हैं । शाम तक औसतन डेढ़ सौ से 200 ट्रैक्टर अवैध बालू का उठाव का घाट से हो रहा है । ग्रामीणों ने बताया कि इस घाट का खनन विभाग द्वारा ना तो सोमांकन किया गया है और ना ही बंदोबस्ती की गई है । सरकार राजस्व की चोरी कर बिना चालान से ही बाल उठाव हो रहा है । ग्रामीणों ने कहा कि बालू माफिया गिरोह बनाकर अधिकारियों के संरक्षण में बालू उठाव कर रहे हैं । इसके एवज में प्रत्येक ट्रैक्टर से नदी घाट पर ही 50 से ₹100 की अवैध उगाही की जाती है । ग्रामीणों ने बताया कि इसकी सूचना कई बार-बार प्रशासन को दी गई । लेकिन कोई इनके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं होती है । उल्टे बालू माफिया गिरोह एकजुट होकर ग्रामीणों पर धौस जमाते हैं । ग्रामीणों का कहना है कि अविलंब नदी से बालू उठाव बंद किया जाए । ताकि नदी में बना रहे । साथी आने वाले दिन में पेयजल की समस्या उत्पन्न हो जाएगी । इसके आलावा नदी पर बना पुल पर खतरा हो जाएगा । इधर एनजीटी ने 10 जून से 15 अक्टूबर तक मानसून को देखते हुए नदी पर बालू उठाव पर रोक लगा दी है । लेकिन इसका कोई असर मधुपुर में नहीं दिख रहा है । इस घाट के आलावा लोहराजार घाट, करौ व मारगोमुंडा में कई घाट पर जेसीबी लगाकर बालू का उठाव की जा रही हैं  *क्या कहते हैं । अंचलाधिकारी

सीओ मधुपुर परमेश्वर कुशवाहा ने कहा कि 10 जुन से 15 अक्टुबर तक एनजीटी के द्वारा नदीं से बालु उठाव पर रोक लगा दी गइ हैं । छापेमारी कर आवश्यक कार्रवाई करेंगे!

कोई टिप्पणी नहीं