राजधानी रांची से संथाल परगना के लोग पैसेंजर ट्रेन से नहीं जुड़ पाए



संथाल परगना के आम और खास लोग मै  पैसेंजर ट्रेन से राजधानी रांची से जोड़ने की चर्चा इन दिनों चल रही है ।बताते चलें कि हावड़ा न्यू दिल्ली रेल खंड से कई प्रांतों की राजधानी को पैसेंजर ट्रेनों से जोड़ा गया है। बंगाल की राजधानी कोलकाता, बिहार की राजधानी पटना से जोड़ा गया है। लेकिन संथाल परगना के लोगों  झारखंड राज्य बने  21 वर्ष गुजरने के बाद भी पैसेंजर ट्रेनों से राजधानी रांची से नहीं जोड़ा गया है। जबकि झारखंड राज्य का उप राजधानी दुमका  वही झारखंड का सांस्कृतिक राजधानी देवघर माना जाता है। इतना ही नहीं जसीडीह से दुमका तक सवारी गाड़ी का परिचालन किया जाता है। लेकिन जसीडीह से राजधानी रांची के लिए पैसेंजर ट्रेन नहीं है। आम और खास लोगों को राजधानी जाने में रेल भाड़ा अधिक वहन करना पड़ रहा है। आज 21वर्ष गुजर रहे हैं। उसके बावजूद भी झारखंड सरकार ने आमजन, लोकहित  एवं जनहित के लिए जसीडीह से रांची जाने के लिए पैसेंजर ट्रेनों के परिचालन नहीं किया। वही रांची से जुड़ने के लिए रांची दुमका एक्सप्रेस ट्रेन ,देवघर रांची एक्सप्रेस ट्रेन का परिचालन किया जा रहा है। लेकिन पैसेंजर ट्रेन का परिचालन नहीं हो रहा है। जो संथाल परगना के लोगों के लिए एक बहुत बड़ी समस्या है। बरहाल संथाल परगना के लोग झारखंड की राजधानी रांची जाने में काफी फजीहत का सामना कर रहे हैं।

कोई टिप्पणी नहीं