मेंटेनेंस के नाम पर कुंडहित में दिन भर बिजली रहती गुल, लोगों में नाराजगी।



कुंडहीत ( जामताड़ा) : बिजली विभाग व कार्यरत एजेसियों की लापरवाही के कारण इनदिनों कुंडहित प्रखंड के लोगों को भयंकर गर्मी की दौर से गुजरना पड़ रहा है। सुबह से लेकर शाम तक तो कभी कभी रात तक गर्मी में रहना पड़ रहा है। विभाग के अनुसार 33 हजार में मेंटेनेंस का काम हो रहा है। इस सड़ी हुई गर्मी से लोगों की हालत खराब है, ऊपर से मेंटेनेंस के नाम पर एजेंसी बारह महीने काम कर रही है। फिर भी हल्की हवा के चलने से ही मेंटेनेंस की पोल खुल जाती है। अभी 1 जून से 10 जून तक मेंटेनेंस के नाम पर सुबह 10 बजे से शाम के 5 बजे तक बिजली काट दी जाती है। लोगों का कहना है कि ये मेंटेनेंस का काम जाड़े के दिनों में क्यों नही किया जाता है। या बरसात के दो महीने पहले किया जाना चाहिए। जब सड़ी हुई गर्मी शुरू होगी तभी दिनभर बिजली गुल रहेगी। 

विभागीय सूत्रों के अनुसार बिजली विभाग में कई एजेंसिया जिले में लगभग 6-7 सालों से काम कर रही है। लेकिन उनका काम खत्म नही हो रहा है। एक जैक्सन कंपनी भी जिले में लगभग 6 सालों से काम कर रही है। कभी फीडर तो कभी 33 हजार में काम करती है, लेकिन घटिया काम होने की वजह से हल्की हवा में ही बिजली की तारें गिर जाती है तो कभी इंसुलेटर पंक्चर हो जाती है। इससे लोगों को काफी परेशानी होती है। 

शहरी क्षेत्र के बिल देने के बाद भी नही हुआ अलग फीडर

बता दें कि कुंडहित के लोगों को शहरी क्षेत्र का बिल भुगतान करना होता है। लेकिन उनके लिए अलग फीडर की कोई व्यवस्था नही है। कुंडहित बाजार की बिजली को अम्बा गांव के फीडर से जोड़ कर रख दिया गया है। अम्बा का फीडर हमेशा फाल्ट हो जाती है। नतीजतन  लोगों को गर्मी में कभी रातभर तो कभी दिन भर गर्मी से रात गुजारनी पड़ती है। 


उपभोक्ता मुन्ना, बिंटी, काजू गिरी, जगबंधु पाल, पिंटू मंडल, राजीव घोष, पूर्णिमा धर, राजू रॉय , जगन्नाथ गण, प्रह्लाद गोराई गिरधारी मंडल सजल रक्षित सहित अन्य ग्रामीणों ने कहा कि कुंडहित की बिजली कभी सुधार नही हो सकती। आज 7 सालों में एक अलग फीडर नही बन पाया। जबकि उन्हें शहरी क्षेत्र का बिल देना पड़ता है। कहा कि कुछ साल पहले एनसीसी नामक कंपनी ने कुंडहित बिजली सबस्टेशन में अलग फीडर को बनाया था, लेकिन चालू नही हो पाया। 

अलग फीडर नही बनने से देंगे धरना

कुंडहित के लोगों ने कहा कि अब अलग फीडर चालू नही होने से शहरी क्षेत्र का बिल भी नही देंगे। साथ ही विभाग की लापरवाही को लेकर धरना दिया जाएगा। 

क्या कहते है बिजली कार्यपालक अभियंता

विद्युत कार्यपालक अभियंता इंद्रजीत हेम्ब्रम ने कहा कि कुंडहित बिजली पर 33 हजार लाइन में मेंटेनेंस का काम हो रहा है। कुंडहित बाजार के लिए अलग फीडर एनसीसी कंपनी को दिया गया था। लेकिन अधूरा कर छोड़ दिया गया है। अब दूसरी एजेंसी को दिया जाएगा या नही तो डिपार्टमेंटल काम होगा

कोई टिप्पणी नहीं