वैक्सीन्स और दवाइयों को पेटेंट मुक्त कराने के लिए विश्व जागृति दिवस मनाया गया।



देवघर- स्वदेशी जागरण मंच द्वारा रविवार को एंटी कोरोना वैक्सीन्स एवं दवाइयों को विश्व के गरीब से गरीब देश के हर एक व्यक्ति को सर्वसुलभ कराने के उद्देश्य से संबंधित फार्मा कंपनियों, विश्व व्यापार संगठन एवं विकसित देशों पर उचित लोकतांत्रिक तरीके से दबाव बनाकर इन वैक्सीन्स और दवाइयों को पेटेंट मुक्त कराने के   लिए विश्व जागृति दिवस मनाया गया। इसी परिप्रेक्ष्य में देवघर स्वदेशी जागरण मंच के सदस्यों द्वारा कोरोना गाइडलाइंस का अनुपालन करते हुए दिन के 11:00 बजे विभिन्न स्थानों पर  हाथों में पोस्टर , बैनर लिए खड़े होकर एवं संध्या 4:00 बजे सैकड़ों घरों में लोग अपने परिवार के सदस्यों के साथ अपने-अपने घर के छत्तों एवं बालकनियों से अपने परिवार के सदस्यों के साथ हाथों में पोस्टर , बैनर लिए पेटेंट मुक्त वैक्सीन्स और दवाइयों की मांग की। इस अवसर पर जिला संयोजक मनोज कुमार सिंह ने कहा कि यदि विश्व का एक व्यक्ति भी कोरोना वायरस संक्रमित रह जाता है तो भविष्य में पुनः कोरोनावायरस जनित संक्रामक बीमारियों के फैलने की संभावना बनी रह जाएगी। अतः इन परिस्थितियों में लाभ को मानवीय मूल्यों से ऊपर मानते हुए नैतिकता का तकाजा यह है कि  विकसित देशों, विश्व व्यापार संगठन एवं संबंधित फार्मा कंपनियों को एंटी कोरोना वैक्सीन्स और दवाइयों को हर हाल में पेटेंट मुक्त करनी चाहिए ताकि विश्व के गरीब से गरीब मुल्क के गरीब व्यक्ति को भी यह वैक्सीन और दवाइयां सुलभता से प्राप्त हो सके। रेड रोज स्कूल के प्रधानाचार्य सह प्रसिद्ध उद्घोषक रामसेवक सिंह गुंजन, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के वरिष्ठ स्वयंसेवक गौरी शंकर शर्मा एवं समाज सेविका रीता चौरसिया ने एक स्वर से  स्वदेशी जागरण मंच द्वारा चलाए जा रहे इस अभियान की सराहना की और कहा कि विश्व व्यापार संगठन एवं विकसित देशों को इस वैश्विक आपदा में मानवीय पहलुओं को ध्यान में रखते हुए एंटी कोरोना वैक्सीन्स और दवाइयों को पेटेंट फ्री कर देनी चाहिए ताकि विश्व के गरीब से गरीब देश के हर एक  व्यक्ति को भी ये एंटी कोरोना वैक्सीन्स और दवाइयां सुलभता से प्राप्त हो सके। विदित हो कि इस वैश्विक आपदा के समय में दुनिया को कोरोना से बचाने के लिए तेजी से एंटी कोरोना वैक्सीन लगाने की जरूरत है ; नहीं तो देर करने की स्थिति में टीका  लगे हुए व्यक्ति को भी नए कोरोना वैरीएंट से संक्रमित होने की आशंका बनी होती है। अतः विश्व के 787 करोड़ आबादी को तेजी से एंटी कोरोना वैक्सीन्स और दवाइयां उपलब्ध कराने की आवश्यकता है और यह तभी संभव हो सकता है जब विकसित देशों के साथ-साथ विश्व के गिने-चुने वैक्सीन्स निर्माता फार्मा कंपनियों द्वारा इन्हें पेटेंट मुक्त कर सक्षम फार्मा कंपनियों को, अधिक से अधिक वैक्सीन्स उत्पादन के लिए, निर्माण संबंधित तकनीकी का हस्तांतरण करे। उपरोक्त उद्देश्यों की प्राप्ति के लिए स्वदेशी जागरण मंच द्वारा विगत 12 मई से 19 जून २०२१ तक डिजिटल हस्ताक्षर अभियान चलाया गया। पूरे भारत से लगभग बीस लाख  लोगों ने वहीं झारखंड में एक लाख से अधिक लोगों ने डिजिटल हस्ताक्षर कर इस अभियान को अपना समर्थन दिया।देवघर जिला से कोई साढ़े आठ हजार  लोगों ने डिजिटल हस्ताक्षर कर इस अभियान को  अपना समर्थन दिया।

आज के इस कार्यक्रम को सफल बनाने में मनोज कुमार सिंह, गौरी शंकर शर्मा, रामसेवक सिंह गुंजन, रीता चौरसिया , विजया सिंह, राजीव झा, मिथिलेश बाजपेई, जीवेश कुमार सिंह, आशा कुमारी, माया केसरी ,संध्या कुमारी, महेश दुबे ,सुमन देवी ,बबलू मित्रा, मिथिलेश बाजपेई , सुनील गुप्ता, मानवेंद्र सिंह, शौर्य सिंह सहित कई अन्य लोग सम्मिलत रहे।

कोई टिप्पणी नहीं