"सुरक्षित गांव, हमर गांव" बनाने सभी का सहयोग आपेक्षित:- उपायुक्त



उपायुक्त सह जिला दण्डाधिकारी  मंजूनाथ भजंत्री के निदेशानुसार सुरक्षित गांव हमर गांव बनाने के उद्देश्य से जिले के सभी प्रखण्डों में घर-घर जाकर आंगनबाड़ी सेविका, स्वयं सहायता समूह की दीदियों व सहिया द्वारा ग्रामीणों को अपने व्यवहार में शत प्रतिशत कोविड नियमों का अनुपालन और कोविड टीका लगवाने के लिए जागरूक करने का लगातार प्रयास किया जा रहा है। साथ ही लोगों को कोविड से बचाव, रोकथाम के लिए बरती जाने वाली सावधानियों के अलावा ग्रामीणों क्षेत्रों में लगाए जाने वाले टीकाकरण केंद्रों के बारे में जानकारी दी जा रही है।

इसके अलावे पांच जून तक चलाए जाने वाले अभियान के तहत सभी सहिया, आंगनबाड़ी सेविका व सहायिका, सखी मंडल के सदस्यों द्वारा घर-घर जाकर सर्वे व जांच कर रही हैं। साथ ही अभियान के माध्यम से ग्रामीणों क्षेत्रों में सावधानी और सतर्कता के साथ मास्क का उपयोग, सामाजिक दूरी का अनुपालन, साफ-सफाई और कोविड वैक्सीनेशन के फायदों से अवगत कराया जा रहा है, ताकि संक्रमण की चैन को तोड़ा जा सके। वही आंगनबाड़ी सेविका, स्वयं सहायता समूह की दीदियों व सहिया द्वारा ग्रामीणों को जानकारी दी जा रही है कि कोरोना संक्रमण के दूसरी लहर काफी असरदायक साबित हो रही है, इसमें थोड़ी सी लापरवाही से खतरा काफी बढ़ सकता है , ऐसे में संक्रमण के खतरे से बचने के लिए वैक्सिनेशन सुरक्षा कवच है। वर्तमान में सबसे महत्वपूर्ण है कि अपने साथ - साथ अपने परिवार की स्वास्थ्य सुरक्षा का विशेष रूप से ख्याल रखें।

कोई टिप्पणी नहीं