जामताड़ा उपायुक्त के अपील के बाद भी नारायणपुर के ग्रामीण क्षेत्रों में नही हो रही वेक्सीनेशन में प्रगति



नारायणपुर(जामताड़ा): जामताड़ा जिले के नारायणपुर और करमाटांड प्रखंड में कोविड वेक्सीनेशन में प्रगति नही होने से जिला प्रशासन की चिंता बढ़ गई है| वही नारायणपुर प्रखंड में वैक्सीनेशन में गति हो इसको लेकर बुधवार को नारायणपुर प्रखंड सभागार में जिले के उपायुक्त  श्री फ़ैज़ अक अहमद ने  मुमताज ने प्रखंड क्षेत्र के विभिन्न समुदायों के धर्मगुरुओं के साथ घंटों बैठक भी किए| बैठक में उन्होंने धर्म गुरुओं से अपील किया था कि कोरोना महामारी के इस चेन को तोड़ने के लिए वैक्सीनेशन बहुत जरूरी है |उपायुक्त श्री फ़ैज़ ने कहा था कि  समाज में धर्म गुरुओं का स्थान बहुत ऊंचा होता है| लोग उनकी बातों को सुनते हैं और अम्ल भी करते हैं इसलिए सभी धर्म गुरु लोगों को वैक्सीन लेने के लिए अपील करें ताकि नारायणपुर प्रखंड में वैक्सीनेशन की प्रगति हो सके और अधिक से अधिक लोगों को वैक्सीन का लाभ मिल सके |लेकिन इसे नारायणपुर प्रखंड क्षेत्र के लोगों की कोविड-19 वेक्सीनेशन को लेकर लापरवाही  ही कहे कि लोग वैक्सीन लेने से कतरा रहे है|इस बात का अंदाजा गुरुवार को नारायणपुर प्रखंड के कुल पांच स्थानों के कोविड वेक्सीनेशन शिविरों के आंकड़ों से लगाया जा सकता है कि गुरुवार को नारायणपुर प्रखंड के उत्क्रमित मध्य विद्यालय लोकनिया में 11 लोगों ने ,पंचायत भवन सबनपुर में 5 लोगों ने,सीएचसी नारायणपुर में 180 जबकि मुस्लिम बहुल गांव पोखरिया में एक भी व्यक्ति ने वैक्सीन नही लिया| पोखरिया में कोविड वेक्सीनेशन को गए स्वास्थ्य विभाग की टीम में सुबह 9 बजे से शाम 5 बजे तक वैक्सीनेशन सेंटर में वैक्सीन लगाने हेतु लोगों के आने के इंतजार में बैठकर ही बैरंग बिना वैक्सीनेशन कार्य के वापस लौटना पड़ा क्योंकि वह करेक्शन सेंटर पर एक भी व्यक्ति व्यक्ति लगाने नहीं आए| नारायणपुर प्रखंड क्षेत्र में अधिकारी लगातार वैक्सीनेशन में गति को लेकर व्यापक प्रचार प्रसार कर रहे हैं जिले के उपायुक्त खुद बैठक कर लोगों से वैक्सीनेशन लेने के लिए अपील भी किए थे | बावजूद लोग वैक्सीनेशन को लेकर गंभीर नहीं है जो चिंता का विषय है | यदि यही आलम रहा तो नारायणपुर प्रखंड क्षेत्र को वैक्सीन ना लेने के कारण भारी नुकसान का सामना करना पड़ सकता है| वही उपायुक्त के द्वारा अपील किए जाने के बावजूद भी प्रखंड के पोखरिया गांव में गुरुवार को आयोजित शिविर में एक भी व्यक्ति के द्वारा वैक्सीन नहीं लिए जाने से कई सवाल खड़े हो रहे हैं ऐसे में यह कहना अनुचित नहीं होगा कि पोखरिया गांव के लोगों को कोरोना महामारी कि भयावहता की जानकारी नही है या फ़िर उन्हें इस महामारी से कोई भय नहीं है| जिस गति से जिले में कोरोना महामारी अपना पैर फैला रहा है| अगर इसकी गंभीरता को लोग समझते तो बढ़ चढ़कर वैक्सीन लेते| अब जरूरत है प्रशासन वैक्सीन नहीं लेने वालों पर सख्ती से पेश आए तभी वैक्सीनेशन में गति हो पाएगी|

कोई टिप्पणी नहीं