जेल में बंद विचाराधीन कैदी पुत्र ने पेरोल में आकर दी मां को मुखाग्नि



सारठ :  थाना क्षेत्र के कचुवाबांक पंचायत के ढोढ़ोडूमर गांव निवासी देवघर जेल में बंद विचाराधीन कैदी पुत्र ने पेरोल पर पुलिस अभिरक्षा में गुरुवार को सारठ के अजय नदी सती घाट पहुंचकर मां को मुखाग्नि दी। बताते चलें कि ढोढ़ोडूमर गांव निवासी प्रसादी मंडल की पत्नी रजनी देवी (55 वर्ष) की बीते बुधवार शाम को हृदय गति रुकने से मौत हो गई थी। जबकि उनका दोनों पुत्र राजीव मंडल व संजय मंडल साइबर अपराध में आरोपी होने की वजह से पिछले चार माह से विचाराधीन कैदी जेल में बंद है। वहीं घटना की जानकारी मिलने पर पहुंचे विधायक रणधीर सिंह ने बुधवार देर रात ढोढ़ोडूमर गांव पहुंचकर घटना पर दुख जताते हुए जेल में बंद पुत्र को पेरोल पर बाहर निकलवाने और दाह-संस्कार में शामिल कराने का भरोसा परिजनों को दिया। इस बावत विधायक ने मौके पर से ही बीडीओ साकेत कुमार सिन्हा को फोन करके मृतक महिला का मृत्यु प्रमाण उपलब्ध कराने की दिशा में समुचित कदम उठाने का निर्देश दिया। वहीं उन्होंने अपने वकील से कोर्ट में पेरोल को लेकर ऑनलाइन आवेदन देने और जरूरी प्रक्रिया को पूरी करने की बात कही। जिसके बाद कोर्ट के निर्देश पर गुरुवार दोपहर बाद एएसआई बिपिन बहादुर चार पुलिस जवानों के साथ पुलिस वैन में दोनों विचाराधीन कैदी को लेकर सारठ पहुंचे और दाह-संस्कार कराने के बाद देर शाम वापस लौट गये। इधर घाट पर पहुंचे विधायक रणधीर सिंह ने कहा कि दोनों विचाराधीन क़ैदी भाजपा के कार्यकर्त्ता हैं और दोनों को झूठे केस में पुलिस द्वारा फंसाया गया है। वहीं उन्होंने कहा कि दोनों को अपनी माँ के क्रिया-कर्म में भी शामिल रहने के लिए कोर्ट से अपील की जायेगी और पुनः तीन दिन का पैरोल में लाया जायेगा। इधर दोनों विचाराधीन क़ैदी को लेकर पहुंचने के बाद सारठ थाना के एएसआई अरबिंद कुमार, अशोक कुमार पांडेय व अमरेश सिंह भी पुलिस जवानों के साथ मौजूद रहे। बताया गया कि पैरोल पर आये दोनों युवक को सीएचसी में कोरोना जांच कराकर पुनः जेल भेजा जायेगा।

No comments