उम्मीद की एक लौ बनकर उभर रही ऑनलाइन शिक्षण व्यवस्था:डॉ वंदना पांडे



देवघर:कोविड -19 की वर्तमान परिस्थितियों में जब जिन्दगी थम सी गई है ऐसे में हमारे नौनिहालों के भविष्य पर मंडराता खतरा सबसे अधिक भयावह है। क्योंकि उनका सम्पूर्ण भविष्य अंधेरे के आगोश में समाने को व्याकुल दिख रहा है।ऐसे में उम्मीद की एक लौ बनकर उभर रही ऑनलाइन शिक्षण व्यवस्था। मधुपुर के मोहनलाल गुटगुटिया उच्च विद्यालय में गूगल फार्म के माध्यम से नामांकन जारी है। वाट्सएप्प समूह से छात्रों को जोड़ कर शिक्षक उनके भविष्य को रौशन करने के लिए प्रतिबद्ध हैं। प्रतिदिन ऑनलाइन कक्षाओं का विषय-वार  आयोजन किया जाता है। गूगल मीट, झूम ऐप्प के साथ टीचमिन्ट ऐप के जरिए भी छात्रों की कक्षा ली जाती है।बदलते हुए परिवेश में छात्रों के लिए यह अनिवार्य सा हो गया है कि वो मोबाईल और कम्प्यूटर के स्मार्ट फंक्शन की जानकारी रखे ताकि ऑनलाइन कक्षाओं का लाभ सही तरीके से उठा सकें अतः इस वर्ष मोहनलाल गुटगुटिया उच्च विद्यालय मधुपुर में कम्प्यूटर की कक्षा छात्रों के लिए विशेष रूप से रखी गई है। यही कारण है कि इस सप्ताह के राज्यस्तरीय टेस्ट में छात्रों की प्रतिभागिता और प्रदर्शन दोनों ही अच्छे रहे। वास्तव में आई सी टी वर्तमान कालखंड के ध्वजवाहक के रूप में उभरकर सामने आया है, इसके जिला समन्वयक अमित कुमार सिन्हा की जितनी प्रशंसा की जाय वह कम होगी। सीखाने से लेकर ऑनलाइन व्यवस्थाओं को बनाने और उसे धरातल पर लाने तक सभी कार्यों में इनका योगदान सक्रिय, सशक्त और प्रभावी होता है।आई सी टी के विद्यालय समन्वयक अमृतानंद मिश्रा के सकारात्मक सहयोग से कक्षाओं का संचालन करने में कठिनाई न के बराबर ही आती है। विद्यालय की प्र. प्रधानाध्यापिका होने के नाते मैं आई सी टी और इसकी टीम को हार्दिक धन्यवाद कहना चाहूँगी।

No comments