कृषक मित्र के आकस्मिक निधन पर शोक



सारठ : अंचल क्षेत्र के कचुवाबांक पंचायत के ढोढ़ोडुमर गांव निवासी 45 वर्षीय कृषक सह उद्यान मित्र जवाहर चौधरी उर्फ मुन्ना चौधरी की शनिवार रात्रि को पश्चिम बंगाल के बर्द्धवान के एक निजी अस्पताल में मौत हो गई। इधर घटना के बाद कयास लगाया जा रहा था कि उनकी मौत कोरोना की वजह से हुई है। जबकि मृतक के भाई राजू चौधरी ने बताया की 15 दिन पूर्व उनकी अचानक तबियत खराब होने पर डॉक्टर जियाउल हक से इलाज कराने ले गये, जहां कोरोना जाँच रिपोर्ट नेगेटिव आया। लेकिन मृतक को सांस लेने में परेशानी हो रही थी। जिसके बाद चिकित्सक द्वारा निमोनिया होने की आशंका जताते हुए यथाशीघ्र बेहतर इलाज के बाहर ले जाने की सलाह दी गई। फिर परिजनों द्वारा आनन-फानन में वर्द्धवान के निजी अस्पताल मे भर्ती कराया जहां इलाज के दौरान शनिवार देर रात उनकी निधन हो गई। मृतक करीब 15 दिन तक अस्पताल में भर्ती था। मृतक अपने पीछे 38 वर्षीय विधवा पत्नी मुन्नी देवी , 21 वर्षीय पुत्र दीपक कुमार, 2 पुत्री समेत बूढ़े माता-पिता व भाई समेत भरा पूरा परिवार छोड़ गए। हालांकि मृतक की पुत्रियों की शादी हो चुकी है। वहीं घटना के बाद मृतक की विधवा व पुत्र समेत अन्य परिजनों का रो रो कर बुरा हाल है। मृतक की विधवा मुन्नी देवी ने बताया की परिवार मे एकमात्र कमाऊ व्यक्ति वही थे और उनके चले जाने से मेरा ओर मेरे पुत्र का गुजारा करना बहुत मुश्किल है क्योंकि हमलोग के पास थोड़ी बहुत जमीन के अलावा जीविकोपार्जन का कोई साधन नहीं है। क्योंकि परिवार के अन्य सदस्य अलग रहते हैं।मौके पर मुखिया अब्दुल मियां, पंचायत समिति सदस्य समीउद्दीन मिर्ज़ा, बरजहाँ मिर्ज़ा, जीतू जीतू मंडल समेत दर्जनों ग्रामीण उपस्थित थे।

No comments