किसान आंदोलन के 6 माह पूरे होने पर देवघर कांग्रेसियों ने काला झंडा फहरा कर मनाया काला दिवस



देवघर 26 मई देवघर,बुद्धवार  देश का अन्नदाता किसान आज पूरे छः माह से संपूर्ण भारत वर्ष में केन्द्र सरकार द्वारा लाए गए किसान बिरोधी तीन काला कानून के खिलाफ  में आंदोलनरत है। लाखों किसान खुले आसमान के नीचे तपती धूप,कड़ाके की ठंढ,बर्फीली हवा और पानी में अपने परिवार के बुढ़े,बच्चे,महिला और नौजवान के साथ दिल्ली के बोर्डर पर धरने पर बैठे हैं,यह आश लिए कि इनकी मांगें मान ली जाएगी। इस दौरान सैंकड़ों किसानों ने जान गंवा दी। लेकिन देश की निष्ठुर, निर्दयी, निकम्मी,मजदूर किसान विरोधी नरेन्द्र मौदी सरकार के कानों तक जूँ नहीं रेंगी। आज 26 मई को किसान आंदोलन के छः माह पूरे हो गए,बावजूद देश के मेरूदंड किसान बंधुओं के मांगों पर देश की सरकार संवेदनहीन बन बैठी है। इनकी जान की परवाह नहीं।अगर परवाह है तो सिर्फ अपने चंद पूंजीपति मित्रों की।उनके हित एवं लाभों की।आज अगर इन किसानों की चिंता और परवाह है तो सिर्फ कांग्रेस को। जिनके हितों की रक्षा आजादी के समय से करती आ रही है। तीन काले कानून के खिलाफ किसान आंदोलन के समर्थन में अखिल भारतीय कांग्रेस तथा झारखंड राज्य कांग्रेस कमिटि के निर्देश पर राष्ट्रीय स्तर पर काला दिवस मनाया गया। देवघर जिला कांग्रेस के सभी नेता,पदाधिकारी,कार्यकर्ताओं ने जिला अध्यक्ष मुन्ना संजय के नेतृत्व में विरोध दर्ज करते हुए काला दिवस मनाया और देश की मौदी सरकार पर सोशल मीडिया के माध्यम से जम कर बरसे। इस दौरान कोविड-19 महामारी के कारण सुरक्षा सप्ताह के नियमों का अनुपालन करते हुए सभी कांग्रेस अपने-अपने घरों पर काला झंडा तथा काला बिल्ला  लगाकर केन्द्र सरकार का विरोध तथा किसान आंदोलन का समर्थन किया। इस मौके पर  जिला अध्यक्ष मुन्नम संजय ने कहा कि केन्द्र की भाजपा सरकार अपनी हठधर्मिता को त्याग कर अतिशीघ्र किसानों की मांग को मान लें। वरना आज ये सड़क पर हैं तो कल तुम्हें सड़क पर ला देंगें।

काला दिवस में मुख्य रूप से वरिष्ठ जिला उपाध्यक्ष प्रो उदय प्रकाश, सेवा दल के अजय कुमार,मीडिया प्रभारी  दिनेश कुमार मंडल,अवधेश प्रजापति,फैयाज कैसर,नगर अध्यक्ष रवि केशरी,महिला अध्यक्ष प्रमिला देवी,प्रदीप नटराज,जयशंकर शरण,महेंद्र यादव,अनुराग आनंद, गुलाब यादव, बाबा यादव आदि ने भाग लिया

कोई टिप्पणी नहीं