22 घंटे से सारठ में विद्युत आपूर्ति ठप, बहाल करने की तैयारी में जुटा विभाग



सारठ : चक्रवाती तूफान यास का खासा असर सारठ प्रखंड क्षेत्र में भी देखने को मिल रहा है। बुधवार अहले सुबह से गुरुवार शाम तक लगातार रुक-रुक कर हो रही बारिश से जहां लोग दो दिनों से अपने-अपने घरों में ही कैद है, वहीं तेज हवा के चलने से पिछले 22 घंटे से क्षेत्र में बिजली की आपूर्ति भी पूरी तरह से ठप हो गया है और बिजली नहीं रहने से लोगों का मोबाइल भी डिस्चार्ज हो गया है। तेज हवा के चलते जहां क्षेत्र में दर्जनों पेड़ पौधे उखड़ गये हैं वहीं बारिश की वजह से किसानों के पशु भी दो दिन से घरों में ही बंधे हुए हैं। इधर नियमित रूप से बिजली आपूर्ति नहीं होने से लोगों के घरों में भी अंधेरा पसरा है और रौशनी के लिए मोमबत्ती का सहारा लेते देखे जा रहे हैं, क्योंकि बिजली नहीं रहने से इन्वर्टर भी लोगों का बैठ गया है। हालांकि गुरुवार सुबह से ही बिजली विभाग के सहायक अभियंता रोशन कुमार व कनीय अभियंता प्रभात तिवारी बिजली कर्मियों के साथ क्षेत्र में विद्युत आपूर्ति बहाल करने के लिए जद्दोजहद करते दिखे दिखे और सभी फीडरों के 11 हजार मैन लाइन को दुरुस्त कराते दिखे। कई जगह पेड़ो के डालियों को कटवा रहे थे। सहायक अभियंता द्वारा बताया गया कि 33 हजार को दुरुस्त करने के बाद 11 हजार को भी दुरुस्त कराया जा रहा है। बताया गया कि गुरुवार शाम तक में हर हाल में क्षेत्र में विद्युत आपूर्ति को बहाल कराया जायेगा, विभाग द्वारा सारठ बाजार फीडर को कई बार ट्रायल भी लिया गया, लेकिन शॉट सर्किट के चलते लोड नहीं ले रहा था। समाचार लिखे जाने तक में भी बिजली विभाग के अधिकारी और कर्मी आपूर्ति को बहाल करने के लिए डटे हुए थे, लेकिन तेज हवा और भारी बारिश की वजह से काम करने में परेशानी हो रही थी। मौके पर विभाग के केशव सिंह, प्रीतम ओझा, बिजली कर्मी रामनिवास मिश्रा, डहरु पंडित, जयनारायण झा समेत कई अन्य कर्मी जद्दोजहद कर रहे थे।

कोई टिप्पणी नहीं