रेल यात्रियों का नहीं हो रहा है कोविड-19 की जांच वही सोशल डिस्टेंसिंग का नहीं हो रहा है अनुपालन



आसनसोल मंडल रेल के संथाल परगना ही नहीं झारखंड की सांस्कृतिक राजधानी  देवघर को मुख्य द्वार माने जाने वाला रेलवे स्टेशन जसीडीह पर विभिन्न राज्यों से आने जाने वाले प्रवासी मजदूर एवं रेल यात्रियों का कोविड-19 का जांच नहीं हो पा रहा है। वहीं विभिन्न ट्रेनों से आने बाले रेलयात्री बिना कोविड-19 का जांच अपने घर के लिए रवाना कर रहे हैं। जबकि कोविड-19 के बढ़ते संक्रमण के  प्रकोप से गंभीर स्थिति राज्य में होने का संकेत है। कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए स्टेशन पर जांच काउंटर बनाया गया है ।लेकिन रेल यात्रियों का जांच नहीं हो पा रहा है। राज्य सरकार द्वारा कोविड-19 संक्रमण से सुरक्षित  रहने के लिए स्वस्थ सुरक्षा सप्ताह का आयोजन किया जा रहा है। बावजूद भी जसीडीह रेलवे स्टेशन पर रेल यात्रियों को खुलेआम बिना जांच प्रवेश करते देखा जा सकता है। वहीं अनेक रेल यात्री को बिना मास्क पहने स्टेशन पर ट्रेनों का आने का इंतजार करते भी देखा जा सकता है। स्टेशन पर विधि व्यवस्था मैं आरपीएफ और जीआरपी को देखा जा सकता है। लेकिन स्टेशन पर तैनात प्रशासनिक पदाधिकारी एवं आरक्षी द्वारा रेल यात्रियों को कोविड-19 का गाइडलाइन पालन करवाने का प्रयास भी नहीं किया जाता है ।बताते चलें कि गत वर्ष रेलवे की ओर से श्रमिक स्पेशल ट्रेन चलाई जा रही थी उस वक्त की जांच व्यवस्था दोबारा करने की बता लोग कर रहे हैं। ट्रेन आने पर बोगी से  लाइन से रेल यात्रियों को सोशल डिस्टेंसिंग पालन कराता साथ ही थर्मल स्कैनिंग  कर बाहर निकाला जाता था। जबकि स्टेशन के प्लेटफार्म पर जाने से पहले जांच किया जाता था। लेकिन इस वर्ष स्टेशन पर रेल यात्री बिना जांच के ही स्टेशन में प्रवेश करते देखा जा सकता है। अगर रेल प्रशासन जागरूक नहीं हुआ तो वह दिन दूर नहीं जब बाहर से आने वाले श्रमिक और रेलयात्री  अपने शहर और गांव जाकर संक्रमण को बढ़ावा दे सकते हैं। इस रेलखंड पर दिल्ली, गुजरात, महाराष्ट्र ,पंजाब, बिहार ,बंगाल, उत्तराखंड, छत्तीसगढ़, केरल आदि प्रदेशों से प्रवासी मजदूर झारखंड आ रहे हैं ।जबकि बंगाल में कोरोना वायरस संक्रमण से सुरक्षित रहने के लिए सारी व्यवस्था स्टेशन पर चुस्त-दुरुस्त वर्तमान समय में किया गया है। वही न्यू दिल्ली हावड़ा मुख्य रेलखंड होने से जसीडीह रेलवे स्टेशन शिव होकर 50 ट्रेनों का परिचालन प्रतिदिन होता है जिस वजह से हजारों की संख्या में रेलयात्री रेलवे स्टेशन से अपने गंतव्य स्टेशनों की ओर जाते हैं।

No comments