एस पी के निर्देश पर 10 साइबर आरोपी को पुलिस ने किया गिरफ्तार



देवघर। साइबर थाना की पुलिस ने साइबर अपराध के आरोप में 10 साइबर आरोपियों को गिरफ्तार किया है । एसपी कार्यालय में आयोजित प्रेस वार्ता में पुलिस अधीक्षक अश्विनी कुमार सिन्हा ने बताया कि उन्हें गुप्त सुचना मिली थी कि विभिन्न  थाना क्षेत्रो में पुनः साइबर आरोपी  सक्रिय हो  रहे है।  छापेमारी करने से पकड़ा जा सकता है।इस बावत प्राप्त सुचना पर एसपी श्री सिन्हा ने साइबर डीएसपी नेहा बाला के नेतृत्व में छापेमारी टीम  का गठन किया और चितरा थाना क्षेत्र के सोनातार ,  पत्थरड्डा ओपी क्षेत्र के घाघरा, एवम जसीडीह थाना क्षेत्र के  लिलुवाडीह गांव में छापेमारी कर  कुल 10 साइबर अपराधी को गिरफ्तार किया है। उन्होंने बताया कि ये  लोग विभिन्न कस्टमरों को फर्जी मोबाइल नंबर से फर्जी बैंक अधिकारी बनकर एटीएम बंद होने एवं चालू करने के लिए उसे अपने जाल में फंसा लेते है और उसके मोबाइल पर ओटीपी भेज कर उससे हासिल कर उसके खातों को मिनटों में खाली कर देते हैं। साथ ही केवाईसी के नाम पर भी ये लोग  लोगों के आधार कार्ड, एटीएम नंबर, सीवीवी नंबर, आदि ले लेते हैं और उसे बड़ी आसानी से  चुना लगा देते हैं। इतना ही नहीं येलोग इतना शातिर है कि विभिन्न प्रकार के इलेक्ट्रॉनिक पेमेंट एप  पर भी मनी रिक्वेस्ट भेज कर उसे ओटीपी ले लेते हैं और उसके खातों को पलक झपकते ही साफ कर देते हैं। ये लोग एप्प के  साइट पर जाकर उससे छेड़छाड़ करते हैं और ग्राहक सेवा अधिकारी के नंबर पर अपना नंबर एडिट कर ग्राहकों को बड़ी आसानी से फंसा लेते हैं। इनलोगों के पास से  पुलिस ने इसके पास से 13 मोबाइल, 22 सिम, 02 पासबुक,  01 एटीएम, 01 ग्लैमर मोटरसाइकिल, सहित नकद 48500 रुपये बरामद किया हैं।

गिरफ्तार साइबर आरोपियों का नाम

गिरफ्तार साइबर आरोपियों में से महेंद्र दास, समीर महरा, अजित कुमार मंडल, विनोद कुमार दास, उमेश दास, प्रमोद कुमार मंडल, सुभाष दास, मंटू दास,  अजय दास, राजेन्द्र दास शामिल हैं। जिसमें महेंद्र दास साइबर थाना कांड संख्या 55/20 के नामजद आरोपी हैं जो अभी बेल पर हैं, साथ ही  अजय दास साइबर थाना कांड संख्या 35/20 के नामजद आरोपी हैं।  इसके अलावे  विनोद कुमार दास गुजरात के पाटन जिले के थाना कांड संख्या 33/2019 व चित्रपूर के थाना कांड संख्या 88/2019 के ठगी का आरोपी रहा हैं। अन्य गिरफ्तार साइबर आरोपियों के आपराधिक इतिहास के बारे में पूछे जाने पर एसपी ने बताया कि इनलोगों के आपराधिक इतिहास की जांच की जा रही हैं।

कोई टिप्पणी नहीं