कुंडहित प्रखंड में धूमधाम के साथ मनाया गया रामनवमी का त्यौहार, लोगों ने किया महावीरी ध्वजारोहण।



कुंडहित( जामताड़ा ): बुधवार को प्रखंड क्षेत्र में हिन्दुओं का प्रमुख त्योहार रामनवमी  आस्था के साथ मनाया गया। 

लगभग सभी देवालयों में एवं अपने अपने घर के आंगन में विधि विधान के साथ भगवान महावीर की पूजा-अर्चना श्रद्धालुओं ने की तथा कच्चे हरे बांस में वैदिक मंत्रोच्चार के साथ हनुमानी ध्वजारोहण किया। एवं उपस्थित लोगों के बीच प्रसाद का वितरण किया।

राम नवमी के कारण सुबह से ही मंदिरों एवं प्रांगण की साफ सफाई की गई। ध्वजा गाड़े जाने वाले जगह पर गोबर से लिपाई पुताई किया गया। इसके पश्चात पंडितों के निर्देशन में हरे कच्चे बांस में पिठार और सिदूर लगा कर तैयार किया गया। तत्पश्चात राम एवं रामभक्त हनुमान की पूजा कर उक्त बांस में महावीरी ध्वज को गाड़ा गया।

मान्यताओं के अनुसार असुरों के राजा रावण को संहार करने के लिए भगवान विष्णु ने त्रेता युग में भगवान राम के रूप में सांतवा अवतार लिया था। चैत्र मास की नवमीं को अयोध्या के राजा दशरथ की पहली पत्‍‌नी कौशल्या ने भगवान राम को जन्म दिया था। मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम के जन्म दिवस को रामनवमी के रूप में मनाने की परंपरा है। 

बताते चलें कि प्रखंड क्षेत्र में हर साल प्रखंड मुख्यालय में रामनवमी त्यौहार के शुभ अवसर पर जुलूस निकलती है लेकिन कोविड-19 को नियम को पालन करते हुए इस साल भी जुलूस नहीं निकाला गया है। श्रद्धालु ने मास्क पहनकर मंदिरों में आस्था के साथ  पूजा अर्चना की और साथ ही साथ कोविड-19 नियमों को पालन करते हुए भीड़ नहीं लगने दिया  गया ।

No comments