कुंडहित और बाबूपुर में चार दिवसीय बासंती पूजनोत्सव पुरे विधि विधान के साथ शुरू, नहीं लगेंगे मेले



कुंडहित (जामताड़ा ):सोमवार को सिंहवाहिनी माता मंदिर में एवं बाबूपुर गांव में चार दिवसीय बासंती पूजनोत्सव पूरी विधि विधान के साथ शुरू हो गया। सोमवार को दोनों मंदिरों में कलश स्थापना के साथ ही महासप्तमी की पूजा अर्चना पूरे विधि विधान एवं वैदिक मंत्रोच्चारण के साथ शुरू हो गया। मंदिर में महासप्तमी की पूजा अर्चना शुरू होते ही चारों और भक्तिमय माहौल पैदा हो गया। वहीं कोरोना काल के कारण मंदिरों में भक्त और श्रद्धालुओं की उपस्थिति कम देखी गई। आस्था के कारण श्रद्धालुओं ने मंदिर में जाकर माता की दर्शन कर घर लौट रहे हैं जबकि पूजा उत्सव को लेकर पुलिस और प्रशासन भी मंदिरों में तैनात होकर आने जाने वालों को घर में रहने की सलाह दिया जा रहा है। वही बसंती पूजा के अवसर पर कुंडहित सिंहवाहिनी मंदिर में विभिन्न कार्यक्रम के साथ मेला का आयोजन किया जाता था। लेकिन कोरोना काल के कारण 2 सालों से मंदिरों में पूजा उत्सव पर किसी तरह की सांस्कृतिक कार्यक्रम तथा मेला नहीं होने पर लोगों के मन में गुस्सा फूट रहे हैं जबकि सरकार द्वारा कोरोना के बढ़ते संक्रमण के कारण पूजा उत्सव पर सभी प्रकार के सांस्कृतिक कार्यक्रम एवं मेला को बंद कर दिया गया है। जहां पूजा के 5 दिन लोगों का जमावड़ा रहता था वही आज कोरोना काल के कारण विरान नजर आ रहा है। मौके पर पुजा कमेटी के जयदेव मंडल, बबलू दत्ता, प्रणव नायक, दिनबंधु बागती, राजू लौह, संतोष पाल  आदि सदस्य उपस्थित थे। इस बाबत क्या कह रहे हैं पुजा कमेटी के जयदेव मंडल आइए सुनते हैं

No comments