बाघशाला जमा मस्जिद के इमाम मौलाना रियासत अली ने ग्रामीणों को बताया रमजान उल मुबारक महीने के फायदे।



कुंडहित (जामताड़ा)सोमवार को कुंडहित मुख्यालय संलग्न बाघाशोला मस्जिद के इमाम साहब हजरत मौलाना रियासत अंसारी के द्वारा इस माहे मुक़द्दस रमजानुल मुबारक का महीना में रोजा रखना, पांच वक्त का नमाज पढ़ना, कुरान शरीफ का तिलावत करना, नफ्ल इबादत करना और इफ्तार कराने आदि के बारे में  हदीश के रौशनी में बेशुमार फायदा ग्रामीणों को बताया गया।उन्हेंने कहा कि  इस महीने में अल्लाह पाक का इबादत के साथ साथ गरीबों को खाना खिलाना सदका, फितरा, जकात देना बहुत ही अफजल है। 

बर्तमान समय में कोरोना वायरस के बीमारी के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए ग्रामीणों को इस माह का इबादत एबं बंदेगी करने के समय, कोविड 19 का नियमों का पालन आवश्यक रूप से करने हेतु समझाया गया । सभी को मास्क का उपयोग, एक दूसरे से कम से कम 2 गज की दूरी, हाथ की हमेशा साबुन या सैनिटाइजर धुलाई आदि करने को सलाह दिया दिया गया एवं बेवजह बहार या बाजार में न जाने का सलाह दिया गया।ताकि रोजा में भूख व प्यास के शिद्दत में किसी को कोरोना न हो। इमाम साहब ने अस्र की नमाज के बाद दुआ में परवरदिगार से दुनिया के सभी इंसानों के लिए दुआ माँगा  है कि इस कोरोना बीमारी से सभी को सुरिक्षत रखे।मौके पर  ग्रामीण मो0 रफिक हुसैन, शेख समीरुद्दीन, कालु मियां, राजा, अब्दुल रज्जाक, मो0 रकीब हुसैन, खलील मियां आदि उपस्थित थे ।

No comments