देवघर :प्रधानमंत्री आवास योजना गरीबों का हक नही बल्कि अमीरों का बना हक ।



देवघर।इन्दिरा आवास जिसे अब प्रधानमंत्री आवास योजना के नाम से जाना जाता है। देखने और सुनने मै अच्छा लगता है की सरकारी योजना का लाभ आम नागरिकों का हक है, पर किया इसका लाभ आम नागरिकों को मिल रहा है। देवघर के कोकरीबाग पंचायत के कोकरीबाद गांव के नाई टोला के ग्रामीणों से पता चला कि  गरीबों का हक को केसे एक समाज के पदाधिकारी लोग छीन लेते है।। जो लोग 5 हजार,10 हजार देते है उन्हे ही प्रधानमंत्री आवास का लाभ मिल पाता है और जो नहीं दे पाते है उनका नाम काट दिया जाता है जो की एक जांच का विषय है। कोकरिबाग के कई ग्रामीणों ने बताया कि घर की आर्थिक समस्या जादा खराब होने के कारण प्रधानमंत्री आवास के लिए उन्होंने अप्लाई किया पर ओ रिजेक्ट हो गया जिसका कारण अब तक पता नहीं चल पाया है। संवादाता जब  कोकरीबाग पंचायत के मुखिया जी बात की तो पता चला कि ये sc, obc का मामला हो सकता सुनने मै अजीब लगता है जिसके वजह से ग्रामीणों का नाम रिजेक्ट हुआ है। ग्रामीणों ने ये भी कहा कि इसकी सूचना DC, BDO तक को की गई है, तब पर भी अभी तक कोई कार्रवाई नहीं हुई है।प्रधानमंत्री आवास योजना के नाम पर ठगी सिर्फ देवघर मै ही नहीं बल्कि पूरे भारत मै देखने को मिल रही है। ग्रामीणों मै भुनेश्वर ठाकुर आवास संख्या jh1659057, कारू ठाकुर jh2747876, मनोज jh1645957,  रामदेव नापित, विनोद नापित, संतोष नापित ,ने अखबार के माध्यम से इंसाफ की गुहार लगाई है।

No comments