यह निर्विवाद सत्य है, सभी जीवित प्राणियों की उत्पत्ति जल में हुई है : डॉ. प्रदीप



देवघर  : स्थानीय साइंस एंड मैथेमेटिक्स डेवलपमेंट आर्गेनाईजेशन के बैनर तले विश्व जल दिवस के अवसर पर आयोजित संगोष्ठी में आर्गेनाईजेशन के राष्ट्रीय सचिव डॉ. प्रदीप कुमार सिंह देव ने कहा- पूरी दुनिया में विश्व जल दिवस 22 मार्च को मनाया जाता है जिसका उद्देश्य विश्व के सभी विकसित देशों में स्वच्छ एवं सुरक्षित जल की उपलब्धता सुनिश्चित करवाना तथा जल संरक्षण के महत्व पर भी ध्यान केंद्रित करवाना। ब्राजील में  रियो डी जेनेरियो में वर्ष 1992 में आयोजित पर्यावरण तथा विकास का संयुक्त राष्ट्र सम्मेलन द्वारा आयोजित कार्यक्रम में विश्व जल दिवस मनाने की पहल की गई तथा वर्ष 1993 में संयुक्त राष्ट्र ने अपने सामान्य सभा के द्वारा निर्णय लेकर इस दिन को वार्षिक कार्यक्रम के रूप में मनाने का निर्णय लिया। पृथ्वी पर मौजूद सभी जीवन रूपों के कामकाज के लिए जल बुनियादी आवश्यकता है। यह सार्वभौमिक जीवन तत्व हमारे पृथ्वी ग्रह पर हमारे पास मौजूद प्रमुख संसाधनों में से एक है। जल हमारे अस्तित्व की नींव है। मानव शरीर को जीवित रहने के लिए जल की आवश्यकता होती है। इसके बिना, हम तीन दिनों तक भी जीवित नहीं रह सकते हैं। पर्याप्त जल की कमी या दूषित पानी की खपत मनुष्यों के लिए गंभीर स्वास्थ्य समस्याएं पैदा कर सकती है। हमारी दैनिक गतिविधियाँ जल के बिना अधूरी हैं। चाहे हम सुबह उठकर ब्रश करने ,नहाने या अपने भोजन को पकाने की बात करें, यह भी उतना ही महत्वपूर्ण है। बड़े पैमाने पर, उद्योग बहुत सारे इसका उपभोग करते हैं। उन्हें अपनी प्रक्रिया के लगभग हर चरण के लिए इसकी आवश्यकता होती है। यह निर्विवाद सत्य है कि सभी जीवित प्राणियों की उत्पत्ति जल में हुई है। वैज्ञानिक अब पृथ्वी के अलावा अन्य ग्रहों पर पहले इसकी खोज को प्राथमिकता देते हैं। इसके बिना जीवन जीवित ही नहीं रहेगा। वर्तमान समय में जल की बचत आज की सबसे महत्वपूर्ण आवश्यकता है। केवल पानी की कमी पानी के अनावश्यक उपयोग के कारण है। बढ़ती आबादी और इसके परिणामस्वरूप बढ़ते औद्योगिकीकरण के कारण, शहरी मांग में वृद्धि हुई है और इसकी खपत बढ़ रही है। वैश्विक जल संरक्षण के वास्तविक क्रियाकलापों को प्रोत्साहन देने के लिये विश्व जल दिवस को सदस्य राष्ट्र सहित संयुक्त राष्ट्र द्वारा मनाया जाता हैं। इस अभियान को प्रति वर्ष संयुक्त राष्ट्र एजेंसी की एक इकाई के द्वारा विशेष तौर से बढ़ावा दिया जाता है जिसमें लोगों को जल से संबंधित मुद्दों के बारे में सुनने व समझाने के लिये प्रोत्साहित करने के साथ ही विश्व जल दिवस के लिये अंतरराष्ट्रीय गतिविधियों का समायोजन भी शामिल है। इस कार्यक्रम की शुरूआत से ही विश्व जल दिवस पर वैश्विक संदेश फैलाने के लिये थीम विषय का चुनाव करने के साथ ही विश्व जल दिवस को मनाने की सारी जिम्मेवारी संयुक्त राष्ट्र की पर्यावरण तथा विकास एजेंसी की हैl

कोई टिप्पणी नहीं