चितरा माइंस प्रबन्धक और विधायक के खिलाफ होगा जबरजस्त प्रदर्शन-परिमल सिंह



सारठ-देवघर जिला का एक मात्र कोलमाइन्स चितरा जो कोल इंडिया और केंद्र सरकार का अभिन्न अंग माना जाता है अब आखरी सांस गिनने की कगार पर चला आया है।वहीं सूत्रों के हवाले से प्रबन्धक की मानें तो भूमि के अभाव में माइंस से कौयला का उत्खनन नहीं हो पा रहा है दूसरी सबसे बड़ा कारण अवैध कौयला का व्यवसाय को बताया जा रहा है जो ट्रकों,पिकअप भेंन,सायकिल,मोटरसाइकिल आदि के माध्यम से पुलिस प्रशासन के नाक के नीचे से निर्बाध रूप से किया जा रहा है उस पर विस्थापितों का मामला भी माइंस के घाटा का एक कारण है।

बहरहाल सारठ विधानसभा के जेएमएम नेता भूपेन सिंह उर्फ परिमल सिंह चितरा कोयलवरी प्रवंधन के किलाफ़ आगामी 17 मार्च को धरना प्रदर्शन करने जा रहे हैं और कार्यक्रम को सफल बनाने के उद्देश्य से लगातार लोगों से सम्पर्क स्थापित कर धरना प्रदर्शन में सामिल होने का न्योता भी दे रहे हैं।

इसी क्रम में भूपेन सिंह सारठ मुश्लिम मुहल्ला स्थित मजार के निकट रहने वाले अकलियत भाइयों को धरना प्रदर्शन के दिन मौके पर जुटने का आग्रह करते दिखे।वहीं भूपेन सिंह ने कहा कि चितरा कोयलवरी को बचाना बहुत जरूरी है इस कोयलवरी के माध्यम से हजारों लोगों का रोजी रोजगार और परिवार का भरण पोषण होता है पूर्व के स्थानीय नेताओं ने अपनी रोटी सेकने के चक्कर मे कभी चितरा और यहां के लोगों के विषय मे नहीं सोंचा।

वहीं परिमल सिंह कहते हैं इस प्रदर्शन के द्वारा प्रवंधन और भारतीय जनता पार्टी के विधायक के ख़िलाफ़ मोर्चा खोला जाएगा ताना साही रवैये के ख़िलाफ़ उक्त दिवस को जबरजस्त प्रदर्शन किया जाएगा।वही जन संर्पक के दौरान मौके पर कलाम शेख,मुबारक शेख,तौहीद शेख,मकसूद शेख़,मुबारक शेख़, हुसैन शेख सहित दर्जनों लोग मौजूद थे।

No comments