रक्तदान के क्षेत्र में स्वतंत्र रूप से सैकड़ों युवा जरूरत पर करते हैं लोगों की मदद



देवघर-रेड क्रॉस सोसायटी का चुनाव सम्पन्न हो गया है और अब शहर में चर्चा भी इस मुद्दे पर लगभग खत्म पर है।वहीं अचानक उठी इस बयार में लोगों को लग रहा था कि रेड क्रॉस सोसाइटी का कार्य सिर्फ रक्तदान का केम्प लगवाना है या रक्तदान करवाना है शायद इस अंतरराष्ट्रीय संस्था के विषय मे लोगों को इतनी ही जानकारी रही होगी।

वैसे बाबा नगरी में सेवा करने वाले सेवकों की कमी नहीं है पूरे सोशल मीडिया में यह बात तेजी से कौंध रहा है कि रक्तदान के लिए किसी संस्था से जुड़ा होना जरूरी नहीं है जरूरी है विषम से विषम परिस्थिति में रक्त उपलब्ध करवा कर जरूरत मन्दों की समस्या का निराकरण करना।

इसी क्रम में देवघर कॉलेज के युवा नेता कुन्दन शर्मा ने कहा की हमलोगों की एक टीम बिना किसी संस्था से जुड़े ही लोगों को रक्त उपलब्ध करवाना में दिन रात लगे रहती है किसी को मदद करने के लिए संस्था से जुड़ा होना जरूरी नहीं है भावना सेवा की होनीं चाहिए।

वहीं 50 बार से भी ज्यादा लोगों को रक्तदान करने वाले योद्धा राहुल झा कहते है सेवा की भावना किसी भी व्यक्ति के सोंच पर निर्भर करता है न कि संस्था पर वैसे जिन्हें भी रक्त की जरूरत पड़ती है हम लोगो को याद कर सकते हैं सेवा एक संकल्प है न कि प्रचार प्रसार।

कोई टिप्पणी नहीं