दिव्यांग बच्चों को उन्मुखीकरण करने के लिए दिया एक दिवसीय प्रशिक्षण।



कुंडहित (जामताड़ा)शुक्रवार को प्रखंड परिसर स्थित बीआरसी भवन में समावेशी शिक्षा के तहत प्रथमिक मध्य एवं माध्यमिक विद्यालयों के प्रधानाध्यापक दिव्यांग बच्चों के अभिभावकों एवं शैक्षिक प्रशासकों को एक दिवसीय उन्मुखीकरण कार्यक्रम का आयोजन किया गया।प्रसिद्ध प्रशिक्षक द्वारा  बताया गया  की उन्मुखीकरण का उद्देश्य दिव्यांग बच्चों का शीघ्र पहचान व्यवसायिक शिक्षा का महत्त्व एवं  गृह आधारित प्रशिक्षण के बारे में विस्तार से जानकारी दिया गया। दिव्यांगजन अधिकार अधिनियम 2016 के तहत 21 प्रकार दिव्यांगों के बारे में बताया गया। शीघ्र  पहचान से दिव्यांगता की रोकथाम की जा सकती है। व्यवसायिक शिक्षण के द्वारा समाज के मुख्य धारा से जोड़ने के लिए अनिवार्य  एवं गृह आधारित प्रशिक्षण बहू विकलांग प्रमास्तिस्किम पक्षाघात वाले बच्चों को दैनिक जीवन की गतिविधि को सिखाया जाता है।  मौके पर इस प्रशिक्षण में कुंडहित अंचल के विद्यालयों के शिक्षकों ने भाग लिया।

कोई टिप्पणी नहीं