रेडक्रॉस सोसाइटी जैसी संस्थाओं पर विवाद दु:खद एवं दुर्भाग्यपूर्ण -- संजय भारद्वाज



देवघर। समाजसेवी और मधुपुर विधानसभा के पूर्व राजद  प्रत्याशी संजय भारद्वाज ने इंडियन रेड क्रॉस सोसायटी की देवघर शाखा के लिए हुए कार्यकारिणी के चुनाव पर उत्पन्न विवाद पर अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त की है।अपने जारी बयान में उन्होंने कहा है कि मानवता की सेवा और सामाजिक सरोकारों के लिए गठित रेड क्रॉस सोसाइटी, देवघर की कार्यकारिणी के चुनाव के बाद उत्पन्न विवाद दु:खद और निराशाजनक है। मेरा मानना है कि कोविड-19 संक्रमण काल में देवघर जिले में ऐसे कई कर्मठ व्यक्ति  और स्वैच्छिक संस्थाएं भी सक्रिय रही है जिन्होंने मानवता की रक्षा के लिए अपने व्यक्तिगत प्रयासों और संसाधनों के दम पर भी काफी काम किया और समाज में जरूरतमंदों और नि:शक्त जनों के हितार्थ सामान्य दिनों में भी स्वप्रेरणा से परोपकार तथा जनहित के काम करते हैं।

इंडियन मेडिकल एसोसिएशन की स्थानीय शाखा द्वारा चुनाव पर असंतोष और जताया जाना इसलिए भी मायने रखता है कि यह उन डॉक्टरों की संस्था है जिन्होंने कोरोना काल में मानवता की रक्षा के लिए अपने प्राणों को दांव पर लगा दिया था। इसलिए यह प्रयास किया जाना चाहिए

कि किसी एक समूह के रेड क्रॉस सोसाइटी जैसी संस्थाओं पर काबिज होने के बजाय ऐसे परोपकारी और कर्मठ लोगों को भी इस संस्था से जोड़ा जाए ताकि मानवता के हितार्थ अधिकतम कल्याण संभव हो सके। जहां तक चुनाव प्रक्रिया का सवाल है तो इस बात की जांच समय की मांग है कि विवाद को जन्म देने वाले कारक क्या हैं ? किसी भी संस्था में फर्जी सदस्य किस प्रकार बनते हैं और उससे किन लोगों को संस्था पर काबिज होने में आसानी होती है ? कितने लोग संस्थान में कितने दिनों से पदों पर कार्यरत हैं और उनके द्वारा किया गया सामाजिक योगदान क्या है?

No comments