नाला सीएचसी में राष्ट्रीय वेक्टर जनित रोग नियंत्रण कार्यक्रम के तहत स्वास्थ्य कर्मियों को दी गई प्रशिक्षण।



नाला (जामताड़ा)---नाला सीएचसी के सभागार में राष्ट्र वेक्टर जनित रोग नियंत्रण कार्यक्रम के तहत बुधवार को सहिया एवं एएनएम को एक दिवसीय प्रशिक्षण की गई। इस क्रम में प्रशिक्षक शाह मलेरिया सुपरवाइजर अहमद रजा परवेज ने सभी स्वास्थ्य कर्मियों को राष्ट्रीय वेक्टर जनित रोग नियंत्रण के बारे में जानकारी दी। इस दौरान उन्होंने मलेरिया कालाजार फाइलेरिया सहित विभिन्न वेक्टर जनित बीमारी के लक्षण रोकथाम के बारे में जानकारी दी। बताया गया कि भूलेख मादा मच्छर जाति के मच्छर से इस वेक्टर जनित रोग का वाहक है वही लक्षण के बारे में बताते हुए कहा कि तेज बुखार उल्टी गर्दन में अकड़न दस्त भटकाव चिड़चिड़ापन पक्षाघात बहरापन आदि इस रोग के लक्षण है वहीं उन्होंने उपचार के बारे में जानकारी देते हुए आयु वर्ग के अनुसार क्लोरो क्विंटल की खुराक लेने के बारे में जानकारी दें इस क्रम में फाइलेरिया रोगी के जांच तथा उपचार के बारे में भी विस्तृत जानकारी दी।बताया गया कि हमारे देश में मुख्यतः दो प्रकार की मलेरिया रोगी पाए जाते हैं जिनका उपचार दवाई के माध्यम से किया जा सकता है इस क्रम में उन्होंने रोगी के उपचार दवा खुराक आदि के बारे में जानकारी दी साथ ही बताया कि PV,PF बुखार की जांच रक्त फट्ट के द्वारा किया जाता है। इसके अलावा उन्होंने वेक्टर जनित अन्य बीमारी के रोकथाम ,लक्षण एवं उपचार के बारे में जानकारी दी। आज के इस प्रशिक्षण शिविर में मेरी स्टेला हेंब्रम,मान कुमारी घोष ,बबीता भूंई, बनलता घोष ,चित्रा मंडल ,रूपाली सिंह , नीतू कुमारी ,शोभा रानी पाल ,सरस्वती गोरांय सहित अन्य स्वास्थ्य कर्मी मौजूद थे।

No comments