बच्चों से मजदूरी करवा कर बाल श्रम कानून का उड़ाया जा रहा है धज्जियां



देवघर-सारठ प्रखण्ड अंतर्गत विभिन्न गांवो में बाल श्रम कानून का लोग आराम से बिना किसी भय के धज्जियां उड़ाने में लगे हुए हैं चाहे वह बालू गाड़ी में बालू का उठाव करना हो या फ़िर ईंट के भट्टे में चहड़ कर ईंट उतारने की बात हो हर जगह बाल मजदूर आसानी से देखे जा सकते हैं।

वहीं स्थानीय लोगों की मानें तो सुबह से शाम तक बच्चों से लगातार मजदूरी करवाया जा रहा है पर इन्हें रोकने वाला कोई नहीं है जबकि बाल श्रम कानून में किसी भी बालक या बालिका से काम करवाने पर कानूनी सजा की बात कही है।

पूर्व के दिनों में विभाग द्वारा कड़ाई करने से प्रायः होटलों और दुकानों में एक इस्तेहार लगाकर यह सूचित किया गया था कि मेरे प्रतिष्ठान में बाल श्रमिक या कोई नबालिग बच्चा काम नहीं करता है पर समय के साथ साथ यह लोग भी इस तरफ़ अपना रवैया उदाशीन करते दिख रहे हैं और छोटे छोटे बच्चों से सेवा ले रहे हैं।

बहरहाल स्थानीय प्रखण्ड विकास पदाधिकारी को इस ओर संज्ञान लेने की जरूरत है ताकि नौनिहालों की भविष्य को सुरक्षित रखा जा सके और लोग बाल मजदूरी करवाने से घबड़ाएं।

कोई टिप्पणी नहीं