म्युटेशन कार्यों में बरते पारदर्शिता:- उपायुक्त मंजूनाथ भजंत्री



दिनांक 13.03.2021 को उपायुक्त सह जिला दंडाधिकारी  मंजूनाथ भजंत्री की अध्यक्षता में जिला स्तरीय, भू हस्तांतरण भू अर्जन, जिला नीलाम पत्र, भू स्वामित्व प्रमाण पत्र एवं विभिन्न न्यायालय में लंबित वादों की समीक्षा बैठक का आयोजन समाहरणालय सभागार में किया गया। इस दौरान उपायुक्त ने बिंदुबार चल रहे कार्यों की विस्तृत समीक्षा करते हुए संबंधित अधिकारियों को आवश्यक व उचित दिशा निर्देश दिया। साथ ही ऑनलाइन दाखिल खारिज से संबंधित मामले की समीक्षा करते हुए उपायुक्त ने सभी अंचलाधिकारी को निदेश दिया कि ऑनलाइन दाखिल खारिज में बिना आपत्ति वाले जो भी मामले हैं उन्हें 30 दिनों के अंदर एवं आपत्ति वाले मामलों को 90 दिनों के अंदर जल्द से जल्द निष्पादित करें, ताकि पोर्टल पर लंबित मामलों की स्थिति को प्रदर्शित किया जाए। 

■जनता की समस्याओं का निराकरण करने के साथ राजस्व कार्यों में लाए तेजी:- उपायुक्त.....

इसके अलावे बैठक के दौरान उपायुक्त ने संबंधित अधिकारियों व देवघर अंचलाधिकारी को निर्देशित किया की प्रसाद योजना के तहत बनने वाले Command and control center के प्रस्ताव को लेकर जल्द से जल्द स्थल चिन्हित कर उपायुक्त कार्यालय को अवगत कराए। साथ ही उपायुक्त द्वारा ग्राम प्रधान व मूल रैयत के स्वीकृत एव कार्यरत बल की वस्तुस्थिति से अवगत हुए और उपरोक्त के नियुक्ति के सबंध में आवश्यक कार्यवाही करने का निर्देश दिया। बिंदुबार समीक्षा के दौरान उपायुक्त श्री मंजूनाथ भजंत्री ने अंचलाधिकारियों को सख्त निर्देशित किया कि आम जानत की समस्याओं का निराकरण के साथ म्युटेशन के कार्य में पूर्ण रूप से पारदर्शिता बरते, ताकि स्वच्छ वातावरण में कार्यों का निष्पादन संभव हो। दूसरी ओर अपने-अपने अंचलों में सक्रिय होकर कार्य करते हुए 15 मई तक आपसी समन्वय स्थापित करते हुए सभी पेंशन सर्वे में छुटे हुए लोगों की सूची अद्यतन करें। साथ ही पेंशन बुकलेट को तीन श्रेणियों (A.B.C) में बनाया। ए श्रेणी में वैसे लोग जो स्वीकृत है और पेंशन का लाभ उठा रहें है, बी श्रेणी में जिनको स्वीकृत किया गया है परन्तु एनएसएपी पोर्टल पर ऑनलाइन एन्ट्री नही हुआ है वंही सी श्रेणी में नए आवेदक होंगे। इससे सही आंकड़े के साथ लाभुकों की आवेदन की स्थिति का भी पता चलेगा और सुविधा अनुसार लाभुकों को योजना के लाभ से लाभान्वित किया जायेगा।

इसके अलावे बैठक के दौरान उपायुक्त ने जिला, प्रखंड व अंचल स्तर के अधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि वर्तमान में देश के 10 संवेदनशील जिलों में शामिल है। जहाँ कभी भी कोरोना संक्रमण का खतरा बढ़ सकता है। वही एक बार फिर से कोरोना संक्रमण का खतरा विभिन्न राज्यों में बढ़ने के अलावा जिले में भी कोरोना पोजेटिव मरीजों की संख्या में इजाफा हो रहा है। ऐसे में अपने-अपने स्तर से सभी को सतर्क, सजग और सावधान रहने की आवश्यकता है, ताकि संक्रमण फैलने का खतरा न रहें।

इस दौरान उपरोक्त के अलावे अपर समाहर्ता  चंद्र भूषण प्रसाद सिंह, अनुमंडल पदाधिकारी मधुपुर  योगेंद्र प्रसाद, भू अर्जन पदाधिकारी  उमा शंकर प्रसाद, जिला परिवहन पदाधिकारी  फिलबुयस बारला, पंचायती राज पदाधिकारी  परमेश्वर मुंडा, जिला कल्याण पदाधिकारी  मीनाक्षी भगत, सभी प्रखंडों के अंचलाधिकारी एवं संबंधित विभाग के अधिकारी व कर्मी आदि उपस्थित थे।

कोई टिप्पणी नहीं