जन्म -मृत्यु पंजीकरण एवं जीवनांक को लेकर प्रखंड स्तरीय एक दिवसीय प्रशिक्षण कार्यशाला का किया गया आयोजन।



कुंडहित (जामताड़ा):सोमवार को प्रखंड  सभागार में प्रखंड  विकास पदाधिकारी  गिरिवर मिंज के अध्यक्षता में जन्म और मृत्यु की   पंजीकरण एवं जीवनांक को लेकर  एक दिवसीय प्रशिक्षण  सह  कार्यशाला का आयोजन किया गया। प्रशिक्षण के दौरान जिला सांख्यिकी पदाधिकारी  पंकज कुमार तिवारी  एवं   प्रशिक्षण कर्ता के रूप में  डिप्टी कलेक्टर विजय कुमार महतो एवं ईश्वर दयाल कुमार महतो उपस्थित थे। जिला सांख्यिकी पदाधिकारी  ने कहा कि जन्म और मृत्यु पंजीकरण  का शत-प्रतिशत लक्ष्य प्राप्त करने के लिए प्रशिक्षण का आयोजन किया गया। जिसमे कई  विभाग के पदाधिकारी उपस्थित रहे। प्रशिक्षक  विजय कुमार महतो एवं ईश्वर दयाल कुमार महतो ने  प्रशिक्षण के दौरान कहा कि परिवार में हुई प्रत्येक जन्म या मृत्यु की घटना का पंजीयन करवाना कानूनन आवश्यक है।

परिवार में हुई प्रत्येक जन्म या मृत्यु की घटना का पंजीयन घटना होने के 21 दिनों तक आप निशुल्क करवा सकते हैं।

समय पर पंजीयन करवाने से भविष्य में होने वाली परेशानियों एवं झंझटो से आप बच सकते हैं।

जन्म रजिस्ट्रेशन का रिकॉर्ड जन्म स्थान एवं जन्म तिथि का कानूनी प्रमाण है।

जन्म एवं मृत्यु घटना का पंजीयन घटना घटित होने के स्थान जैसे  अस्पताल, पंचायत एवं नगर पंचायत के अनुसार उस स्थान के स्थानीय रजिस्ट्रार के यहां किया  जाता है ।जुड़वा बच्चों की स्थिति में रजिस्ट्रेशन प्रत्येक बच्चे का अलग अलग होता है।

जन्म प्रमाण पत्र मृत्यु प्रमाण पत्र निशुल्क दिया जाता है।

बिना नाम के भी नवजात बच्चे का रजिस्ट्रेशन किया जाता है।

ग्रामीण क्षेत्रों में घटना वाले स्थान का पंचायत सचिव स्थानीय निबंधक एवं आंगनवाड़ी सेविका अधीसूचक होती है। परिवार में घटित घटना का सूचक परिवार का मुखिया या कोई  व्यस्क  सदस्य होता है।साथ ही साथ  उन्होंने यह भी कहा कि  जन्म प्रमाण पत्र से तारीख  एवं स्थान का एक प्रमाणिक दस्तावेज है तथा विद्यालय में प्रवेश हेतु,राशन कार्ड ,ड्राइविंग लाइसेंस  ,पासपोर्ट  वोटर कार्ड  आदि बनाने हेतु उपयोगी है  । मौके पर   मनरेगा लिपिक  चंचल दास ,चिकित्सक  प्रकाश  ओम प्रकाश यादव के अलावे बाल विकास परियोजना पदाधिकारी ,पंचायत सचिव, एवं  डाटा एंट्री ऑपरेटर मौजूद थे।

कोई टिप्पणी नहीं