महिलाओं को पशु मित्र का प्रशिक्षण देकर उन्हें सशक्त और रोजगार उन्नमुख बनाना प्राथमिकताः-उपायुक्त



उपायुक्त सह जिला दण्डाधिकारी  मंजूनाथ भजंत्री ने रोहिणी स्थित आर्सेटी (ग्रामीण स्वरोजगार प्रशिक्षण संस्थान) का निरीक्षण कर वास्तुस्थिति का जायजा लिया। इस दौरान केन्द्र में देवघर, दुमका व पाकुड़ जिले की 29 महिलाओं को 60 दिवसीय आवासीय प्रशिक्षण के आखिरी दिन उपायुक्त ने दीदियों से बातचीत कर उन्हें दी जा रही जानकारियों व सुविधाओं से अवगत हुए। इसके अलावे उन्होंने पशुपालन से संबंधित प्रशिक्षण प्राप्त कर रही महिलाओं को इस प्रशिक्षण से होने वाले लाभ एवं महिलाओं को स्वस्थ पशु, अस्वस्थ पशु की पहचान, पशुओं में होने वाली मुख्य बीमारी, सही समय पर टीकाकरण, बीमारियों का उपचार, कृत्रिम गर्भाधान से जुड़े विषयों पर चर्चा करते हुए सभी को बेहतर भविष्य हेतु प्रशिक्षण प्रमाण पत्र के साथ शुभकामनाएं व बधाई दी। इस दौरान उन्होंने कहा कि आज महिलाएं आत्मनिर्भर हो रही है और हर क्षेत्र में स्वयं आगे आकर अपना बेहतर प्रदर्शन दे रही है। प्रशिक्षण प्राप्त करने के बाद आप सभी अपने साथ-साथ अपने गांव की महिलाओं को भी प्रशिक्षत कर सकती है। इसके लिए आप सभी को प्रशिक्षण में बेहतर प्रदर्शन करना होगा ताकि प्रशिक्षण प्राप्त करने के बाद आप सभी महिलाओं में से मास्टर ट्रेनर का चयन किया जायेगा जो कि और भी महिलाओं को इस काम में प्रशिक्षत करेंगी। आप सभी के सहयोग से महिलाओं में छीपी प्रतिभा को निखारने का कार्य किया जायेगा। 

इस दौरान संबंधित अधिकारियों को उपायुक्त ने निदेशित करते हुए उन्होंने कहा कि हम सभी का यह सामूहिक प्रयास होना चाहिए कि आर्थिक रूप से महिला सशक्त बने और महिलाओं को उनके घर के आस-पास हीं रोजगार का अवसर मिल सके। 

■ उपायुक्त  मंजूनाथ भजंत्री ने एसबीआई आर्सेटी से जुड़ी विस्तृत जानकारी दी....

निरीक्षण के पश्चात उपायुक्त मंजूनाथ भजंत्री द्वारा जानकारी दी गयी कि महिलाओं को स्वाबलंबी बनाने के उद्देश्य से 62 व्यवसायिक प्रशिक्षण केन्द्र में दिये जा रहे हैं यथा- व्यवसायिक फूलों की खेती, डेयरी फार्मिंग एवं वर्मी कम्पोस्ट, बकरी पालन, कृषि उद्यमी, मशरूम उत्पादन, सूअर पालन, मुर्गी पालन, सब्जी उत्पादन एवं नर्सरी प्रबंधन, बम्बू एण्ड कैम क्राफ्ट मेकिंग, मोमबत्ती निर्माण, काॅस्ट्यूम ज्वेलरी उद्यमी, गृह निर्मित अगरबत्ती निर्माण, जूट उत्पाद उद्यमी, जेन्स वस्त्र निर्माण पापड़, अचार एवं मशाला पाउडर उद्यमी, साॅफ्ट टाॅय मेकर एण्ड सेलर, वस्त्र, चित्रकला उद्यमी, महिला वस्त्र निर्माण (टेलर), ब्यूटी पार्लर मैनेजमेंट, सेल फोन रिपेयरिंग एण्ड सर्विसिंग, कम्प्यूटर हार्डवेयर एण्ड नेटवर्किंग, कम्प्यूटर एकाउंटिंग, डी00टी0पी0 कम्प्यूटर कोर्स, इलेक्ट्रोनिक मोटर रिवाईडिंग एण्ड रिपेयर, घरेलू विद्युत उपकरण सेवा उद्यम, घरेलू आया, हाउस वायरिंग, हल्का वाहन चालन प्रशिक्षण, रेफ्रिजेरेटर एण्ड एयर कंडीशनिंग, शाॅपकीपर, दो-पहिया मैकेनिक, उद्यमिता विकास कार्यक्रम, औषीधीय पौधों की खेती, पेपरकवर, लिफाफा व फाईल निर्माण, काॅमर्शियल हाॅर्टिकल्चर, फास्ट फुट स्टाॅल उद्यमी, बैंक मित्र आदि का प्रशिक्षण यहां दिया जाता है। इसके अलावे उन्होंने जानकारी दी  कि आर्सेटी से उक्त प्रशिक्षण प्राप्त करने हेतु उम्र सीमा 18 से 45 वर्ष निर्धारित की गयी है। स्वरोजगार संबंधित प्रशिक्षण के उपरांत यहां प्रशिक्षणर्थियों को भारत सरकार द्वारा प्रमाणित प्रशिक्षण संबंधित प्रमाण पत्र प्रदान किया जाता है एवं बैंक से उन्हें ऋण उपलब्ध कराने हेतु मार्गदर्शन भी दिया जाता है, ताकि बैंक से आसानीपूर्वक ऋण प्राप्त कर वे अपना स्वरोजगार शुरू कर सके। 

इस दौरान उपरोक्त के अलावे एलडीएम  आरपीएम सहाय, एसबीआई आर्सेटी के प्रशिक्षक  सियाराम सिंह एवं संबंधित कर्मी आदि उपस्थित थे।    

कोई टिप्पणी नहीं