तीन दिवसीय आचार्य कार्यशाला प्रारंभ।



महेंद्र मुनि सरस्वती शिशु विद्या मंदिर में गुरुवार से तीन दिवसीय आचार्य कार्यशाला प्रारंभ हो गई ।यह कार्यशाला 25 मार्च से 27 मार्च तक चलेगी ।इस कार्यशाला में कई सत्र होंगे तथा सत्र विषयों पर चर्चा में विभाजित होंगे ।आज विद्यालय के सभागार में इसका उद्घाटन प्रोफेसर सुमन लता ने दीप जलाकर किया। अपने उद्बोधन में उन्होंने कहा कि शिक्षक को अपने शिक्षकत्त्व को कभी नहीं छोड़ना चाहिए, चाहे वह घर ,परिवार, विद्यालय या समाज में हो ।यह दायित्व राष्ट्र निर्माण का है अतः कोई भी भूल किसी को स्वीकार्य नहीं होगी । सदा आचरण को अपनी पहचान बनाते हुए अपने कार्य में अनवरत लगे रहना ही शिक्षकों का दायित्व है। कार्यशाला की भूमिका और विषय रखते हुए प्रधानाचार्य शिव कुमार चौधरी ने कहा कि यह आयोजन सक्रिय करने का एक साधन है और इससे वर्ष भर की समीक्षा का अवसर मिलता है, नई योजनाएं और विचार  छन कर आते हैं जो शैक्षणिक उन्नयन में सहायक होते हैं। कार्यशाला में नए सत्र की योजनाओं पर चर्चा हुई। नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 पर विस्तृत चर्चा की गई तथा विद्यालय के सबल और निर्बल पक्ष पर भी अलग-अलग राय ली गई ।आगामी चर्चा में प्रादेशिक कार्य योजना, सीसीई, वर्ष भर में आयोजित गोष्ठी ,संपर्क योजना, विद्यालय की कार्य योजना, पाठ्यक्रम क्रियान्वयन, पंचपदी शिक्षा प्रणाली तथा शैक्षणिक संसाधनों पर चर्चा होगी। प्रत्येक दिन 5 सत्र में कार्यक्रम का संपादन होगा।

No comments