स्वतंत्रता संग्राम के दौरान चौरी चौरा काण्ड एक काला अध्याय : पुष्पा सिंह



देवघर : स्थानीय ब्राइट कैरियर स्कूल की प्राचार्या पुष्पा सिंह ने चौरी चौरा दिवस के सम्बंध में कहा- चौरी चौरा भारत के उत्तर प्रदेश राज्य के गोरखपुर ज़िले में स्थित एक क़स्बा है। यह वास्तव में दो ग्रामों - चौरी और चौरा - का सम्मिलित क्षेत्र है। सन् 2011 की भारत जनगणना के अनुसार चौरी गाँव में 9,028 लोग और चौरा गाँव में 4,182 लोग बसे हुए थे, यानि मिश्रित क्षेत्र की आबादी 13,210 थी। चौरी चौरा में 4 फ़रवरी 1922 को भारतीयों ने बिट्रिश सरकार की एक पुलिस चौकी को आग लगा दी थी जिससे उसमें छुपे हुए 22 पुलिस कर्मचारी जिन्दा जल के मर गए थे। इस घटना को चौरीचौरा काण्ड के नाम से जाना जाता है। इसके परिणामस्वरूप गांधीजी ने कहा था कि हिंसा होने के कारण असहयोग आन्दोलन उपयुक्त नहीं रह गया है और उसे वापस ले लिया था। चौरी चौरा की इस घटना से महात्मा गाँधी द्वारा चलाये गये असहयोग आन्दोलन को आघात पहुँचा, जिसके कारण उन्हें असहयोग आन्दोलन को स्थागित करना पड़ा, जो बारदोली, गुजरात से शुरू किया जाने वाला था। ब्रिटिश सरकार ने इस घटना के बाद, 19 लोगों को पकड़कर उन्हें फाँसी दे दी थी, और उनकी याद में यहाँ एक शहीद स्मारक आज खड़ा है।

No comments