ट्रैक्टर की चपेट में आने से मजदूर की मौत



सारठ :  बीते गुरुवार की रात्रि को अवैध बालू लदे ट्रैक्टर से दबकर एक ट्रैक्टर मजदूर की मौत होने का मामला सामने आया है। मृतक ट्रैक्टर मजदूर 32 वर्षीय अशोक पंडित मिसराडीह गांव का रहने वाला है। घटना को लेकर मृतक के पिता शिवबालक पंडित ने बताया कि उनका पुत्र अशोक गांव के ही लालू यादव के ट्रैक्टर में मजदूरी करने गया था। तभी गुरुवार रात्रि के करीब आठ बजे ट्रैक्टर मालिक लालू यादव पुत्र अशोक को घायल अवस्था में बाइक से लेकर घर पहुंचा और बताया कि ट्रैक्टर की चपेट में आने से अशोक घायल हो गया है। जिसके बाद परिजनों ने आनन-फानन में उसे सारठ सीएचसी ले गया, जहां घायल मजदूर की हालत नाजुक देख उसे देवघर ले जाने को कहा गया। बताया कि परिजन घायल अशोक को लेकर देवघर जा ही रहे थे कि रास्ते में उन्होंने दम तोड़ दिया। इधर घटना की जानकारी मिलने पर शुक्रवार सुबह एसआइ जेएन सिंह, अनूप पीटर कुजूर व एएसआइ विश्वभर विश्वकर्मा  पुलिस जवानों के साथ गांव पहुंचकर मृतक युवक का पंचनामा करके शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए देवघर भेज दिया। वहीं मृतक युवक के पिता के फर्द बयान पर थाने में ट्रैक्टर मालिक सह चालक लालू यादव पर अवैध बालू का उठाव करने, तेज गति व लापरवाही से वाहन चलाने का मामला दर्ज करते हुए पुलिस ने ट्रैक्टर को भी जब्त कर लिया है। 

बीडीओ, थाना प्रभारी, मुखिया आदि ने दिया आर्थिक सहयोग : घटना की जानकारी मिलन पर पहुंचे बीडीओ साकेत कुमार सिन्हा, थाना प्रभारी करुणा सिंह, कचुवाबांक पंचायत की मुखिया अब्दुल मियां, झामुमो नेता इश्तियाक मिर्जा, कांग्रेस नेता सुबास मंडल आदि ने गांव पहुंचकर घटना पर गहरा दुख जताया और युवक के दाह संस्कार के लिए आर्थिक सहयोग भी किया। वहीं बीडीओ द्वारा प्रावधान के तहत सरकारी लाभ देने का आश्वासन दिया गया। बताया गया कि इसके लिए आवश्यक दस्तावेज और आवेदन मृतक की विधवा के नाम से दें।

परिजनों का रो-रो कर बुरा हाल : युवक की मौत से परिजनों का रो-रो कर बुरा हाल था। मृतक की माँ मीना देवी रह-रहकर बेहोश हो जाती थी, वहीं विधवा पत्नी सुलेखा देवी दहाड़ मारकर मृतक के शव से लिपटकर रो रही थी। जिसे देख सभी की आंखे नम हो गई थी। मृतक अपने पीछे बूढ़े मां-बाप के अलावे विधवा पत्नी दो छोटे-छोटे 5 साल का पुत्र और 3 साल की पुत्री के अलावे एक छोटा भाई छोड़ गया है। बताया गया कि मृतक युवक मिसराडीह मोड़ पर ही लिट्टी-चोखा बनाकर बेचता था, लेकिन सीजन मंदा रहने के चलते ट्रैक्टर में मजदूरी कर रहा था।

No comments