साहिबगंज बालिका उच्च विद्यालय के जर्जर भवन का निर्माण शीघ्र शुरू करने की माँग विधायक ने की ।



साहिबगंज संवाददाता:--  राजमहल विधायक अनंत ओझा ने यमुना दास चौधरी बालिका उच्च विद्यालय साहिबगंज में जीर्णशीर्ण विद्यालय के भवन निर्माण को लेकर झारखंड सरकार के भवन निर्माण विभाग के सचिव को एक पत्र लिखा । विगत विधानसभा सत्र  में शून्य क़ाल के माध्यम से राजमहल विधायक अनंत ओझा ने जर्जर भवन के निर्माण कार्य शुरू करने का मामला उठाया था ।विधायक ने प्रश्न के माध्यम से सदन में स्कूली शिक्षा विभाग एवं भवन निर्माण विभाग के बीच आपसी समन्वय नही रहने के कारण क्रियान्वयन में विलम्ब होने का मामला गम्भीरता से उठाया था ।जिसके आलोक में झारखण्ड सरकार के स्कूल शिक्षा एवं साक्षरता विभाग के सचिव ने विधायक अनंत ओझा के प्रश्न के उत्तर में उल्लेख किया है की स्थलीय निरीक्षण कर निर्माण कार्य प्रारम्भ करने हेतु भवन निर्माण विभाग के स्थानीय पदाधिकारी को निर्देशित किया गया था ।कार्यपालक अभियंता ,साहिबगंज द्वारा यह सूचित किया गया है की झारखंड सरकार के मुख्य अभियंता भवन निर्माण विभाग द्वारा सचिव भवन निर्माण विभाग द्वारा चार करोड़ तैतालीस लाख सतासी हज़ार के प्राक्कलन पर तकनीकी स्वीकृति हेतु प्रस्ताव भेजा गया ।अभी यह भवन निर्माण विभाग ,राँची के पास लम्बित है ।इसमें हो रहे विलम्ब को लेकर राजमहल विधायक अनंत ओझा ने विभागीय सचिव ,स्कूल शिक्षा एवं भवन निर्माण विभाग को पत्र लिखकर शीघ्र निर्माण कार्य शुरू करने की माँग की है ।पत्र में उन्होंने कहा कि जिला मुख्यालय स्थित यमुना दास चौधरी बालिका उच्च विद्यालय जिसमे सैकड़ों छात्राएं पढ़ती हैं ।जिसके भवन की अवस्था अत्यंत ही दयनीय हो गई है । जिसके कारण छात्राएं सहित शिक्षकों को भी भारी कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है । इस बात को मैंने विधानसभा में भी रखा था लेकिन अभी तक निर्माण कार्य शुरू करने की दिशा में कोई करवाई नही हो पाई है । 

साथ ही श्री ओझा ने अपने पत्र के माध्यम से छात्राओं के भविष्य को देखते हुए तथा जीर्णशीर्ण भवन में कोई अप्रिय घटना न हो इसको ध्यान में रखते हुए जल्द से जल्द भवन निर्माण के कार्य को  क्रियान्वित करने की मांग की है ।सनद रहे कि स्थानीय विधायक लगातार जर्जर  गर्ल्स हाई स्कूल भवन के निर्माण कार्य शुरू करने का मामला उठाते रहे है ।जिसके आलोक में स्थलीय निरीक्षण हेतु विभागीय  तत्कालीन प्रधान सचिव  व अभियंताओं की टीम भी आ चुकी है ।ज़मीन की कमी होने के कारण आपत्ति आयी थी ।लेकिन भवन निर्माण विभाग द्वारा उसका स्वरूप बदलकर निर्धारित साढ़े चार करोड़ की राशि में ही निर्माण कार्य शुरू करने की बात कही गयी थी ।

No comments