बजट निराशाजनक और सामाजिक सरोकारों से परे



देवघर।संजय भारद्वाज झारखण्ड प्रदेश सचिव सह पूर्व प्रत्याशी मधुपुर विधानसभा राजद ने बयान जारी करते हुए कहा कि यह आम बजट 2020 -21 पेश होने के तुरंत बाद शेयर बाजार में डेढ़ हजार अंकों के आए भारी उछाल से ही साबित होता है कि यह बजट कॉर्पोरेट फ्रेंडली तथा सामाजिक मुद्दों से विरत रहने वाला बजट है। इस बजट में सरकार ने अपने सामाजिक दायित्वों की अनदेखी की है इससे छोटे व्यापारी, किसान, अल्पसंख्यक कल्याण, महिला सशक्तिकरण, सामाजिक न्याय झारखंड जैसे राज्यों में इंफ्रास्ट्रक्चर और सिंचाई सुविधाओं के विकास, युवाओं को रोजगार और छोटे व्यापारियों की सुरक्षा, जल संरक्षण और पर्यावरण जैसे तमाम जरूरी मुद्दों को दरकिनार करते हुए केवल कॉर्पोरेट जगत को ध्यान में रखा गया है और इसी कारण शेयर बाजार में भारी उछाल देखा जा सकता है। बजट पेश होने के पहले छोटे व्यापारियों को उम्मीद थी की सरकार विदेशी ई-कॉमर्स कंपनियों पर लगाम लगाने के लिए ई-कॉमर्स पॉलिसी लाएगी और छोटे व्यापारियों को संरक्षण देगी लेकिन बजट में इस बारे में कुछ भी नहीं है। झारखंड जैसे राज्य में जहां करीब 2,00,000 हेक्टेयर जमीन बंजर होने के कगार पर है वहां सिंचाई सुविधाओं या जल संरक्षण के संबंध में कोई प्रावधान नहीं किया गया, जो थोड़ी बहुत इंफ्रास्ट्रक्चर की योजनाएं शुरू भी की गई है उसमें भी झारखंड का ध्यान नहीं रखा गया है। इनकम टैक्स की दरों में भी कोई राहत नहीं मिली है। कुल मिलाकर यह बजट सामाजिक सरोकारों से परे और निराशाजनक है। ऐसा लगता है कि जैसे बजट पेश करने के लिए ही बजट बनाने की खानापूर्ति कर दी गई है।

No comments