जेल में बंद कैदी ने दी पुलिस की कस्टडी में इग्नू की परीक्षा



देवघर - मन में कुछ करने की ललक और जज्बा हो तो मनुष्य कहीं भी रह कर अपने लक्ष्य की प्राप्ति कर सकता है बस जरूरत है तो दृढ़ संकल्प और एकाग्रता की।ऐसा ही एक मिसाल पेश किया है कारागार में बंद युवक ने जिसने कारागार के अंदर से ही पढ़ाई किया फॉर्म फिल अप किया और अब वह इग्नू की परीक्षा दे रहा है।

इग्नू न सिर्फ गृहणी उम्र दराज तथा पढ़ाई छोड़ चुके लोगों के लिए आगे पढ़ने का अवसर प्रदान करता है बल्कि जेल में बंद कैदियों के जीवन में परिवर्तन लाने के लिए उनकी भी शिक्षा और परीक्षा की व्यवस्था करता है। 

ऐसी एक मिसाल ये एस कॉलेज स्थित परीक्षा केंद्र पर देखने को मिला जहां एक युवक कैदी इग्नू बीए की परीक्षा दे रहा था। उसका कहना था कि उसे गलत ढंग से मुकदमे में फंसा दिया गया है लेकिन उसकी मंशा है कि वह बीए पास कर अपने जीवन को सफल बनाएगा और समाज की मुख्यधारा में शामिल होगा।वहीं उसने कहा कि उसे न्यायालय पर पूरा भरोसा है और उसके साथ न्याय होगा।

No comments