जनवादी लेखक संघ , मधुपुर इकाई का सम्मेलन स्थानीय राहुल अध्ययन केन्द्र में संपन्न हुआ!



मधुपुर स्थानीय राहुल अध्ययन केंद्र  में जनवादी लेखक संघ मधुपुर इकाई का सम्मेलन संपन्न हुआ जिसमे सर्वसम्मति से अध्यक्ष - आलोक गौरखपुरी , उपाध्यक्ष - अजीम मधुपुरी , सचिव - अरूण निर्झर , सह सचिव - रजा मधुपुरी , कोषाध्यक्ष - सुखदेव वर्मन , कार्यकारणी सदस्य - ताहिर मधुपुरी , निशार अहमद चुने गये । मौके पर वतौर पर्यवक्षक जलेस के प्रांतीय सह सचिव धनंजय प्रसाद ने जलेस के संबंध में प्रकाश डाला । तत्पश्चात कवि गोष्ठी की गयी , जिसमें एक से बढकर एक फण से शायरान माहौल तैयार किया । धनंजय प्रसाद ने कहा कि आदमी आदमी से बेजार क्यों हुआ , हादसा दुश्मनी का ये यार क्यो हुआ । अरुण निर्झर - था हौसलों का जोर के सस्ते में आ गई , मंजिल मचल के  खुद मेरे रास्ते मे आ गई । अजीम मधुपुरी - जागी आँखों मे जो ये सपने हैं , गैर के है कहां ये अपने है । रजा मधुपुरी - जिधर भी देखिये हालात रुह फरसा हैँ , कही से कोई खबर जां फिजा नही आती । इसके आलावे आलोक गौरखपुरी , ताहिर मधुपुरी व सुखदेव वर्मन आदि ने कवि सुनाये!

No comments