शहर के बीचों बीच पशु अस्पताल के निकट धड़ल्ले से बिकती है देशी महुवा शराब



देवघर-जहां एक तरफ नशा उन्मूलन को लेकर विभिन्न सामाजिक संगठनों के द्वारा लोगों को जागरूक किया जा रहा है तो वहीं देवघर शहर के बीचों बीच जिला पशु अस्पताल के निकट तड़के सुबह से ही लाइन लगाकर कुछ गांव की महिलाओं को खुले आम देशी महुवा दारू की विक्री करते देखा जा सकता है।

वहीं कुछ ऐसे भी शराब पीने वाले लोग हैं जिनकी लाइनें सुबह सबेरे ही लग जाती है कुछ पीकर सीधा खड़े हो चलते रहते हैं तो कुछ ऐसे भी दिखते हैं जिनके लिए चलना तो बहुत टेढ़ी बात है सीधा खड़े भी नहीं हो पाते हैं।

बहरहाल इस कारण से सुबह के समय पशु अस्पताल पहुंचने वाले लोग और सामने के दुकानदारों को काफी कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है।हो सकता है सरकार का इन पर कोई जोर नहीं हो किन्तु आम लोगों को परेशानी से दो चार प्रत्येक दिन होना पड़ता है।

मौके पर स्थानीय दुकानदारों का कहना है की इनके इस जगह पर शराब की विक्री करने से ग्राहक दुकान पर नहीं पहुंचते हैं और शराब बेचने वाली से लेकर शराब पीने वाले तक से काफी परहेज करते हैं जिसके कारण हम लोगों के धंधा की वाट लग रही है ।

अगर सरकार इस पर कोई कानूनी कार्यवाही नहीं कर सकती है तो कोई बात नहीं परंतु इनके लिए एक निश्चित स्थान तय किया जाए जहां ये अपना व्यवसाय करें पर शहर के बीचों बीच इस तरह के व्यवसाय से परहेज करना चाहिए इस तरह खुलेआम शारब की विक्री से बाबा नगरी की प्रतिष्ठा पर भी दाग लगता है।

No comments