बोरियो विधायक ने झारखंड- बिहार बॉर्डर पर बैठे,पत्थर लदे ट्रकों के चालान की खुद की जांच



साहिबगंज संवाददाता:-- पत्थर खदानों व क्रेसरों में हो रहे भारी धांधली, लूट, एवं विभागीय उदासीनता के कारण पत्थर व्यावसाई मनमाने तरीके से अपने संस्थानों का संचालन करते है। पिछले दिनों विधायक लोबिन हेंब्रम ने मंडरो प्रखंड के तेतरिया गाँव में क्रशर व पत्थर खदानों से उड़ने वाले धूलकण से ग्रामीणों को हो रही परेशानी सुनी थी। ग्रामीणों ने विधायक को बताया था कि बडतल्ला पंचायत के चार नम्बर एवं रेलवे साइडिंग के क्रशरों से उड़ते धुल से वे सभी काफी परेशान हैं। वायु प्रदूषण के कारण लोग टीबी के मरीज बन रहे हैं। लोगों को शुद्ध भोजन-पानी नसीब नहीं हो रहा है। जिसके बाद उन्होंने एलान किया था कि वे अपने विधानसभा क्षेत्र के मिर्जाचौकी, तालझारी व बोरियो में अवैध रूप से संचालित सभी क्रशर व पत्थर खदान खुद बंद कराएंगे। बुधवार की रात करीब 7 बजे वे पुरे दलबल के साथ मीर्जाचौकी स्थित झारखंड बिहार चेकपोस्ट पर जा बैठे। रात करीब 12 बजे तक वे पत्थर लदे ट्रकों की खुद ही जांच करते रहे। सैकड़ों ट्रकों से उन्होंने चालान की मांग की, पर उन्हे एक भी ट्रक से चालान नहीं मिला जिसपर वे भड़क गए और सभी ट्रकों को रोक दिया। मौके पर उन्होंने पत्रकारों को बताया कि एक भी ट्रकों से चालान नहीं मिलना आश्चर्य की बात है। मिर्जाचौकि थाना प्रभारी से पूछे जाने पर उन्होंने 2 माह पहले ही पोस्टिंग होने की बात कहकर अपना पल्ला झाड़ लिया। विधायक ने कहा कि इस गोरखधंधा के जिम्मेदार पुलिस, डीटीओ, माइनिंग, एसडीओ, सीओ ने कितनों पर कार्रवाई की और कितना राजस्व की वसूली की गई इसका कोई लेखाजोखा नहीं है जो साबित करता है कि सबकी मिलीभगत है। क्षमता से अधिक पत्थर लोड होने से सड़क भी खराब हो रहा है।

उन्होंने कहा कि एक जनप्रतिनिधि होने के नाते वो अपने लोगों के हितो की रक्षा हर कीमत पर करेंगे। अब यह देखना लाजमी होगा की विधायक के इस एक्शन का कितना रिएक्शन होता है। ओवरलोडिंग, चालान, प्रदुषण, मजदूरी और सुरक्षा जैसे तमाम खामियां है जिसपर अधिकारियों को ध्यान देना अतिआवश्यक है।

No comments