बिना अनुज्ञप्ति और मूल्य तालिका के धड़ल्ले से बेची जा रही है फंगीसाइड और उर्वरक





देवघर-जिला के सभी बीज उर्वरक और फंगीसाइड बेचने वाले थोक एवं खुदरा विक्रेता नियम का पालन नहीं कर रहे हैं जिसके कारण राज्य सरकार को लगातार राजस्व का नुकसान हो रहा है।वहीं कृषि विभाग की भी नींद नहीं खुल रही है और इनकी लापरवाही के कारण विक्रेता भी नियम को ताख पर रख कर अपना धंधा कर रहे हैं।

किसी भी उर्वरक दुकानदारों ने अपनी दुकान पर मूल्य तालिका नहीं लगाया है बिना अनुज्ञप्ति के ही आराम से फंगीसाइड और उर्वरकों की बिक्री की जा रही है।

वहीं खाद्य सामग्री के दुकान में भी धड़ल्ले से फंगीसाइड और उर्वरक कमोबेश हर प्रखंड के दुकानों में बिक रहा है जिसके कारण आम भोजन की सामग्रियों में हर समय टॉक्सी सिटी बढ़ने का खतरा बना हुआ है।जबकि लगातार जिला  स्तर  पर बीज उर्वरक एवं फंगीसाइड विक्रेताओं को कई बार प्रशिक्षण भी दिया गया है पर इस तरफ किसी का ध्यान नहीं जा रहा है।

वहीं नियम अनुसार उर्वरक और अन्य खाद,किटनाक आदि की विक्री का कोई हिसाब किताब विभाग नहीं लेता है नतीजा है लगातार सरकार को राजस्व की हानि हो रही है।

बहरहाल विभाग को कुम्भकर्णी नींद से जग कर इस ओर गम्भीरता से ध्यान देनें की जरूरत है ताकी सरकार को राजस्व की प्राप्ति के साथ साथ आम ग्राहकों के जीवन से खिलवाड़ बन्द हो।

No comments