बनकटी जगन्नाथ मंदिर परिसर में श्री श्री 108 राधेश्याम महाराज का 41 उत्तम तिरोधन ममहोत्सव संपन्न हुआ



कुंडहित (जामताड़ा):प्रखंड के बनकटी गांव स्थित जगन्नाथ मंदिर परिसर में श्री श्री 108 राधेश्याम महाराज का 41तम तिरोधान महोत्सव मंगलवार को संपन्न हो गया।इस अवसर पर रविवार को गंध उत्सव एवं सोमवार सुबह से मंगलवार अपराह्न तक एक नाम हरि नाम का भक्तजनों द्वारा हरिनाम संकीर्तन किया गया। जहां दूर-दूर से सैकड़ों भक्तजन पहुंच कर तिरोधान महोत्सव में शामिल होकर महोत्सव मनाया गया।जहां हरिनाम संकीर्तन के उपरांत खिचड़ी महाप्रसाद का भक्तों जनों के बीच वितरण किया गया। मौके पर जगन्नाथ मंदिर के सेवायत ध्रुवा चरण महाराज ने कहा कि हर साल एकादशी तिथि पर राधेश्याम बाबा महाराज का तिरोधन महोत्सव मनाया जाता है।जहां दूरदराज से भक्तजनों ने सक्रिय रुप से शामिल होकर उत्सव मनाया गया। भक्त जनों के सहायता से मंदिर का परिचालन किया जाता है।

भक्तों जनों ने राधेश्याम बाबा की जीवनी पर प्रकाश डालते हुए कहा की पश्चिम बंगाल के बांकुड़ा जिला अंतर्गत बड़जोड़ा गांव के जमींदार वंश के एकमात्र पुत्र जो 9 साल की उम्र में अपने फुपी के साथ वृंदावन गए हुए थे। वृंदावन का मधुर रमन दृश्य देखकर वह पूरी तरह आकर्षित हुए एवं फुपी को छोड़कर वहां रहने लगे। वह साधु के निकट शिक्षा दीक्षा ग्रहण कर करने के उपरांत गुरुदेव माधव दास के निकट शिष्यत्व ग्रहण किये।वृंदावन में 55 वर्ष साधन भजन करने के बाद 108 बार गिरिराज दंडवत की परिक्रमा के बाद गोवर्धन पर्वत से साक्षात गिरिधारी प्राप्त किया था। उन्होंने हरि नाम प्रचार करने के उद्देश्य से संथाल परगना जिला अंतर्गत नाला प्रखंड के मोहिजोड़ी गांव के बगल पहाड़ी में 18 रात नाम यज्ञ किया था।तत्पश्चात कुंडहित प्रखंड स्थित सिंह वाहिनी मंदिर में नवरात्रि का आयोजन किया था, एवं बाद में बनकटी गांव पहुंचकर आश्रम निर्माण कर हरि नाम धर्म का प्रचार प्रसार करने लगे।जहां इस क्षेत्र के लोग वैष्णव धर्म के प्रति अनभिज्ञ थे।आज भी संथाल परगना क्षेत्र में हजारों की संख्या में उनके शिष्य हैं। उनके भक्तों द्वारा बताया गया कि उनके द्वारा बहुत सारे अलौकिक लीलाएं भी भक्त जनों के बीच किया गया था। जो कि भक्तों ने उनके कथाएं का उदगार व्यक्त करते हैं। राधे श्याम बाबा महाराज का  प्रखंड के कलाजोड़ा गांव में पोष महीना के कृष्ण पक्ष एकादशी तिथि को तिरोधन हुए थे।

मौके पर शिष्य महादेव मंडल, बादल बादल,  हीरालाल मंडल, राधाचरण हजारी, श्रीदाम फौजदार, सुदामा घोष, दिनबंधु फौजदार, वैष्णव मंडल, दुर्गा चरण घोष, धीरेन मंडल, धीरेंद्र नाथ पाल, जगन्नाथ मंडल, मंगल मंडल, विनोद  चोपदार सहित सैकड़ों भक्तजन तिरोधन महोत्सव में शामिल थे।

फोटो  जगन्नाथ मंदिर परिसर में तिरोधन महोत्सव मनाते भक्तजन एवं खिचड़ी महाप्रसाद का आनंद उठाते भक्त जन।

No comments