अनुमंडल पदाधिकारी राजमहल ने सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट (एसटीपी) कार्य की प्रगति का लिया जायज़ा



साहिबगंज:-- अनुमंडल पदाधिकारी राजमहल हरिवंश पंडित ने नमामि गंगे परियोजना के अंतर्गत निर्माणाधीन विभिन्न कार्यों का जायज़ा लिया। इस दौरान उन्होंने शहर में सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट (एसटीपी) कार्य की प्रगति की निगरानी के लिए जूइड्को टीम, अन्नू इंफ्रा टीम, सिटी मैनेजर, जेई, यूएलबी हेड क्लर्क और अन्य कर्मचारियों के साथ सीवरेज पंपिंग स्टेशनों (एसपीएस) का स्थल निरीक्षण किया। ज्ञात हो की 3.5 एमएलडी एसटीपी की क्षमता सेक्वैशनल बैच रिएक्टर (SBR) तकनीक राजमहल में आधारित नमामि गंगे परियोजना के तहत निर्माणाधीन है।

क्या है एसटीपी एवं एमडब्लूडब्लू:

 नगरपालिका अपशिष्ट जल परियोजनाओं का व्यापक उद्देश्य सीवरेज प्रणाली प्रदान करना है जिससे साहिबगंज और राजमहल शहर में जीवन की गुणवत्ता में सुधार, पर्यावरणीय स्थिरता, अच्छा  स्वास्थ्य, दोनों शहरों में गंगा नदी की स्वच्छता, लोगों की सुरक्षा, और  साथ ही गंगा नदी के किनारे साहिबगंज, कन्हैयास्थान और राजमहल घाटों का विकास करना है। एम डब्लू डब्लू प्रोजेक्ट साहिबगंज में 5 और 7 एम एल डी क्षमता के दो सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट शामिल हैं, 5 नग सीवरेज पंपिंग स्टेशन (एसपीएस), 2 नग मेन पम्पिंग स्टेशन (एम पी एस) और 55 कि.मी. सीवरेज नेटवर्क है। इस परियोजना का निर्माण 02 अप्रैल 2016 से शुरू हुआ और पूरा  31 अगस्त, 2019 तक हुआ। परियोजना 01 सितंबर, 2019 से संचालन और रखरखाव चरण के तहत है। एम डब्लू डब्लू प्रोजेक्ट राजमहल में 3.5 एम एल डी क्षमता का एक सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट (एस टी पी), 3 सीवरेज पंपिंग स्टेशन (एसपीएस), 1 मेन पम्पिंग स्टेशन (एम पी एस) शामिल है और 34 किमी का सीवरेज नेटवर्क है। परियोजना का निर्माण 02 जुलाई, 2018 से शुरू हुआ और निर्माण कार्य प्रगति पर है। लगभग 74 % भौतिक प्रगति हासिल की गई है।

No comments