छः दिनों तक चलने वाला आदिवासी समुदाय का महापर्व सोहराय का समापन

 






साहिबगंज संवाददाता :-- छः दिनों तक चलने वाला आदिवासी समुदाय का महापर्व सोहराय का समापन विधिवत पुलिस लाइन मैदान में हुआ. साहिबगंज कॉलेज मुख्य कार्यक्रम स्थल में मुख्य अतिथि सिदो कान्हू मुर्मू विश्वविद्यालय दुमका कुलपति प्रो सोना झरिया मिंज, राजमहल सांसद विजय हांसदा, बोरियो विधायक लोबिन हेंब्रम, अजय हेंम्ब्रम, विशिष्ट अतिथि उपायुक्त रामनिवास यादव, एसपी अनुरंजन किस्पोट्टा, प्राचार्य डॉ विनोद कुमार सहित अन्य ने विधिवत फीता काटकर उद्घाटन किया. उद्घाटन से पूर्व अतिथियों का स्वागत पारम्परिक तरीके से किया गया. वही आदिवासी गर्ल्स होस्टल की छात्राओ ने मुख्य अतिथि को शॉल ओढ़ाकर सम्मानित किया. वही मुख्य अतिथि कुलपति प्रो सोना झरिया मिंज ने कहा कि छात्र पढ़ाई के साथ-साथ अपने प्रकृति, संस्कृति, सभ्यता व परंपरा का सुरक्षा प्रहरी बने. हमारी प्रकृति सरंक्षण जरूरी है.अपने संस्कृति सभ्यता परम्परा  को अक्षुण रखना तथा लोकपर्व लोकनृत्य लोककला लोकगीत को अपने जीवन का हिस्सा बनाए, यह हम सबों का परम कर्तव्य है. वही श्रीमती मिंज ने छात्र छात्राओं से अपनी आदिवासी संस्क्रति विरासत का शोधकार्य करने. अपने आदिवासी के पर्व त्योहार को पाठ्यक्रम में लाने के लिए शोध करे. बुक प्रकशित करे, जिससे आदिवासी पर्व त्यौहार कल्चर को पाठ्य पुस्तक में लाया जाएगा. इस प्रकार क्रियाशील होकर अपने कार्यों को आगे बढ़ाएं, पढ़ाई खेलकूद में आगे बढ़े. 

मुख्यातिथि लोबिन हेंब्रम ने कहा की घर परिवार छोड़कर गरीबी से जूझते हुए आदिवासी छात्र छात्राएँ पढ़ाई करने आए हैं, पहला कर्तव्य है कि आप मन लगाकर पढ़ें. पढ़लिख कर परिवार व समाज का नाम रोशन करें. आईएस आईपीएस बने. लोबीन हेम्ब्रम ने चिंता जाहिर करते हुए कहा कि आज जिस तरह से प्रकृति पहाड़ का शोषण दोहन हो रहा है वह चिंताजनक है आने वाले पीढ़ी के लिए आने वाले बच्चों के लिए हम प्राणवायु पहाड़ प्रकृति जीव जंतु जानवर को जरूर बचाएं. राजमहल सांसद विजय हांसदा ने कहा कि छात्रों के द्वारा आयोजित कार्यक्रम की प्रशंसा भव्य आयोजन के लिए बधाई  दी. वही उपायुक्त रामनिवास यादव ने छात्रों को सोहराय की बधाई देते हुए कहा कि प्रकृति से जुड़े यह पर्व बहुत प्रेरणादायक है,  छात्रों के नृत्य एवं मंदार के थाप पर  नाचते युवाओं को देखकर मनमोहित हो गया और उनकी भूरी भूरी प्रशंसा की साथ ही उन्होंने इस तरह के कार्यक्रम देख अपने पुराने छात्र जीवन के यादें ताजा कर ली. कार्यक्रम का  विषय प्रवेश प्राचार्य डॉ विनोद कुमार एवं धन्यवाद ज्ञापन डॉ रणजीत कुमार सिंह ने किया. वही साहिबगंज कॉलेज से छात्र छात्राओ का दल ढोल मादर की थाप पर झूमते नाचते गाते मुख्य मार्ग होते हुए पुलिस लाइन स्तिथ मैदान पंहुचा. जहाँ नाइका का चयन हुआ. वही हजारो आदिवासी समाज के महिला पुरुष छात्र छात्राएँ आम लोग ढोल मादर की थाप पर पुलिस लाइन मैदान में देर शाम तक थिरके. वही चाट पापड़ी, गोलगप्पे, फ़ास्ट फ़ूड सहित अन्य का भी लुफ्त उठाया. वही देर शाम पुलिस लाइन मैदान में आतिशबाजी करके ख़ुशी मनाया. वही एसडीपीओ के नेतृत्व में नगर थाना एसआई सुषमा कुमारी, मनीषा कुमारी, रूपा तिर्की सहित अन्य सुरक्षा व्यवस्था में थे. मौके पर लक्षण मुर्मू, चंदन मुर्मू, जितेंद्र मरांडी, जय किस्कू, सुनील सोरेन, युगल मरांडी, विजय टुडू, सोनेलाल, प्रेमचंद्र मरांडी, जेठा मुर्मू, अलिसा हेम्ब्रम, धमनी टुडू सहित सैकडों छात्र छात्राओं व आदिवासी समाज के महिला पुरुष बच्चे उपस्तिथ थे.


साहबगंज से देव आर्यन की रिपोर्ट

No comments