अंकपत्र से संबंधित समस्याओं को लेकर प्राचार्य को अभाविप द्वारा ज्ञापन सौंपा



देवघर/शेखर सुमन। बुधवार को अंकपत्र से संबंधित विभिन्न समस्याओं को लेकर देवघर कॉलेज के प्राचार्य को अभाविप द्वारा ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन में जिक्र है कि कोविड 19 महामारी के कारण हुए लॉक डाउन से ठीक पूर्व  यूजी सेमेस्टर 2,4,6 और  पीजी सेमेस्टर 2 का फॉर्म ऑफलाइन तरीके से भरा जा रहा था। और परीक्षा शुल्क इलाहाबाद बैंक के द्वारा जमा किया जा रहा था। फिर बाद में ऑनलाइन कर दिया गया। यूजी सेमेस्टर-2 का परिक्षाफल आंतरिक परीक्षा और पिछले अंक के आधार पर बिना किसी लिखित परीक्षा के प्रकाशित किया गया था। किंतु वैसे छात्र जिन्होंने ऑफलाइन तरीके से शुल्क जमा किया था।उनका न तो अंकपत्र प्रकाशित किया गया और न ही अंकपत्र आया।उन्होंने आगे जिक्र किया है कि सेमेस्टर-2 यूजी सेमेस्टर एवं पीजी के जिन विद्यार्थियों का अंकपत्र नही आया है। वो अगले सेमेस्टर में नामांकन नही करवा पा रहे हैं। ऐसे में उनका एक साल बर्बाद हो जाएगा। अंकपत्र न आने वाले छत्रों सहित अनेकों छत्रों का  एस के एम यू के आधिकारिक  ऑनलाइन फॉर्म फिलिंग पोर्टल में उनके क्रमांक से संबंधित पेज  नही खुल रहा है। जिस कारण विद्यार्थी काफी परेशान हो रहे हैं। और उनपर मनोवैज्ञानिक असर पड़ रहा है व पढ़ाई भी बाधित हो रही है।कुछ छात्रों का  यूजी सत्र (2017-20) का सभी समेस्टर में रिजल्ट क्लियर है पर उनका किसी किसी सेमेस्टर का अंकपत्र नही आया है। वही सत्र 2017-20 यूजी सेमेस्टर-6 का अंकपत्र ऑनलाइन वेबसाइट पर प्रकाशित 5 दिसंबर को ही हो चुका था, एक  महीने से ज्यादा समय बीत चुका है पर अभीतक अंकपत्र नही आया है। एस एस सी सीजीएल और  आई बी जैसे स्नातक लेवल के बहाली के अंतिम तिथि भरने की तिथि निकट आ गई है। इन फॉर्म में अंकपत्र संख्या डालना होता है। अंकपत्र न आने के कारण विद्यार्थी ये भी नहीं भर पा रहे हैं। इन सभी को लेकर कॉलेज अध्यक्ष संदीप मिश्रा ने प्राचार्य से बात करते हुए कहा कि इन सभी समस्याओं को बिना किसी विद्यार्थी को परेशान किए हुए जल्द से जल्द सुलझाया जाए अन्यथा विद्यार्थी परिषद चरणबद्ध उग्र आंदोलन करेगी। मौके पर नगर छात्रावास प्रमुख लाल मोहन कुमार, कॉलेज मंत्री प्रशांत वत्स, राज दुबे, राष्ट्रपति से सम्मानित राजेन्द्र कुमार, वरुण शर्मा, शुभम रॉय, रिंकेश, आनंद कुमार आदि मौजूद थे।

No comments