श्रीराम जन्मभूमि मंदिर निर्माण निधि समर्पण अभियान का साहेबगंज में शुभारंभ



साहिबगंज संवाददाता:--शुक्रवार से पूरे देश में श्री राम जन्मभूमि मंदिर निर्माण हेतु निधि समर्पण अभियान का शुभारंभ हो गया है। साहिबगंज विभाग के अंतर्गत दोनों जिले साहिबगंज व पाकुड़ के सभी नगरों एवं सभी प्रखंडों के सभी पंचायत एवं सभी बस्तियों से भी हर स्तर पर अभियान का शुभारंभ किया जा चुका है। इसमें राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के कार्यकर्ता विश्व हिंदू परिषद, बजरंग दल, अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद, वनवासी कल्याण आश्रम, विद्या भारती, क्रीडा भारती, गंगा समग्र, संस्कार भारती, सहकार भारती, इतिहास लेखन समिति, भारतीय जनता पार्टी, एकल विद्यालय, विविध  सामाजिक संगठनों, बुद्धिजीवियों, विविध मतों एवं पंथों के अनुयायियों के साथ समन्वय बनाते हुए सभी स्थानों पर आज से श्री राम जन्मभूमि मंदिर निधि समर्पण अभियान का शुभारंभ कर दिया है। साहिबगंज नगर क्षेत्र में भी आज से अभियान का शुभारंभ किया गया। इस अवसर पर स्थानीय कार्यालय माधव निकेतन में एक कार्यक्रम रखा गया था। इस कार्यक्रम में नगर क्षेत्र में रहने वाले सभी गणमान्य लोगों को आमंत्रित किया गया था। कार्यक्रम का शुभारंभ माननीय विभाग संघचालक विजय कुमार के द्वारा विषय प्रवेश के साथ हुआ उन्होंने बताया कि भगवान राम भारतीय संस्कृति की पहचान है। हम सभी भारतीय  श्रीराम के आदर्शों पर ही चलने का प्रयास करते हैं। श्रीराम हमारे वयक्तिक, पारिवारिक, धार्मिक, सामाजिक, एवं राष्ट्रीय जीवन के प्रेरणा स्रोत हैं। विभाग प्रचारक बिगेंद्र कुमार ने कहा श्री राम जन्मभूमि पर भव्य मंदिर निर्माण भारतीय मन की शास्वत प्रेरणा है जिसके लिए श्री राम भक्तों ने 492 वर्षों तक अनवरत संघर्ष किया है। अतीत के 76 संघर्षों में 400000 से अधिक राम भक्तों ने वीरगति को प्राप्त किया है लगभग 36 वर्षों के श्रृंखलाबद्ध अभियानों के फल स्वरुप संपूर्ण समाज ने लिंग, जाति, वर्ग, भाषा, संप्रदाय, क्षेत्र आदि भेदों से ऊपर उठकर एकात्म भाव से श्री राम मंदिर के लिए अप्रतिम त्याग और बलिदान किया है। जिसके परिणाम स्वरूप 9 नवंबर 1989 को श्री राम जन्मभूमि पर शिलान्यास पूज्य संतों की उपस्थिति में श्री कामेश्वर चौपाल ने किया। यद्यपि आस्था का प्रश्न होते हुए भी यह विषय न्यायालयों की लंबी प्रक्रिया में फस गया था। पौराणिक तथ्यों पुरातात्विक उत्खनन राडार तरंगों की फोटो प्रणाली तथा ऐतिहासिक तथ्यों के आधार पर उच्चतम न्यायालय की 5 सदस्यीय पीठ ने 9 नवंबर 2019 को सर्वसम्मति से एकमत होकर निर्णय देते हुए यह 14000 वर्ग फीट की पूरी की पूरी भूमि श्रीराम लला को अपने निर्णय के माध्यम से सौंप दिया। भारत सरकार ने 5 फरवरी 2020 को श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र नाम से न्यास का गठन कर अधिग्रहित 70 एकड़ भूमि श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र न्यास को सौंप दिया। इसके पश्चात 25 मार्च 2020 को श्री राम लला तिरपाल से के मंदिर से अपने अस्थाई नवीन काष्ठ मंदिर में विराजमान हुए।  5 अगस्त 2020 को सदियों के स्वप्न संकल्प सिद्धि का वह अलौकिक मुहूर्त उपस्थित हुआ जब पूज्य महंत नृत्य गोपाल दास सहित देशभर के विभिन्न अध्यात्मिक धाराओं के प्रतिनिधि पूज्य आचार्य आचार्य संतों एवं राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ मोहन भागवत जी के पावन सानिध्य में भारत के लोकप्रिय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने भूमि पूजन कर मंदिर निर्माण का सूत्रपात किया। इस शुभ मुहूर्त में देश के 3000 से भी अधिक पवित्र नदियों एवं तीर्थों से प्राप्त जल एवं रज ( मिट्टी ) संपूर्ण भारतवर्ष को आध्यात्मिक रूप से भूमि पूजन में उपस्थित कर दिया।  झारखंड से भी रामरेखा धाम, अंजन धाम, टांगीनाथ धाम, बैद्यनाथ धाम, बासुकीनाथ धाम, भद्रकाली मंदिर, जगन्नाथ मंदिर, छिन्नमस्तिका मंदिर, 1100 जाहेर थान, सरना स्थलों, गुरुद्वारों, बौद्ध मंदिरों, जैन तीर्थ, सम्मेद शिखर, पार्श्वनाथ, व भगवान बिरसा मुंडा की जन्मस्थली से प्राप्त रज कण उस महान कार्यक्रम के साक्षी बने। हम सबों को इस मंदिर निर्माण में अपना गिलहरी प्रयास अवश्य करना चाहिए। भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता गणेश प्रसाद तिवारी एवं बजरंगी प्रसाद यादव ने भी कारसेवा के संबंध में अपने संस्मरण सुनाए।  कार्यक्रम का संचालन जिला संपर्क प्रमुख डॉ सुरेंद्र नाथ तिवारी ने किया। कार्यक्रम में अरुण विश्वकर्मा, मोतीलाल सरकार, राजीव पांडे, नमिता शर्मा, ज्योति कुमारी, प्रोफेसर डॉक्टर महेंद्र प्रसाद सिंह, सत्य प्रकाश सिन्हा, आनंद मोदी, जिला अधिवक्ता संघ के सचिव विजय कुमार कर्म मुख्य रूप से उपस्थित थे 

 उधर राजमहल नगर क्षेत्र में भी आज श्री राम जन्मभूमि मंदिर निधि समर्पण अभियान का शुभारंभ किया गया। इस अवसर पर कालीचरण मंडल, कुमुद कुमार, नीरज सहित अभ्यां से जुड़े अनेक कार्यकर्त्ता उपस्थित थे।बरहरवा में भी यह कार्यक्रम आयोजित किया गया जिसमें विश्व हिंदू परिषद के प्रांत सह मंत्री वीरेंद्र यादव भाजपा के वरिष्ठ नेता कमलकांत भगत राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के कार्यवाह शंकर महतो सहित अनेक कार्यकर्त्ता उपस्थित थे।तालझारी प्रखंड में भी निधि समर्पण अभियान का शुभारंभ किया गया इस अवसर पर विभाग शारीरिक प्रमुख  संतोष कुमार उपाध्याय ने कहा की सभी रामसेवक घर-घर जाकर समर्पण निधि का संग्रह करेंगे तथा यह अभियान 27 फरवरी तक कुल 45 दिनों का होगा।  प्रखंड के सभी 13 पंचायतों में अभियान का शुभारंभ किया गया। बोरियो प्रखंड में पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के तहत आज दिनांक 15-01-2021 को बोरियो खण्ड के बोरियो बाजार में मेन रोड स्थित बजरंग बली मंदिर के समीप पुर्वाह्न 11:00 बजे निधि समर्पण संग्रह महाभियान का शुभारंभ किया गया। कार्यक्रम का शुभारंभ बोरियो खंड के संत महात्माओं/धार्मिक/सामाजिक कार्यकर्त्ताओं के द्वारा प्राप्त समर्पण राशि से हुआ। उक्त कार्यक्रम को सफल बनाने हेतु बोरियो बाजार एवं बोरियो संथाली पंचायत के सभी कार्यकर्ता व रामसेवकों ने बढ़ चढ़ कर हिस्सा लिया। सबने निर्धारित समय पर पहूँचकर इस ईश्वरीय कार्य में अपना योगदान दिया।  बोरियो प्रखण्ड के अन्य पंचायतों यथा-तेलो,चासगामा,मोतीपहाड़ी,बाँझी संथाली,खैरवा आदि में भी चयनित स्थानों पर निधि संग्रह के निमित्त कूपन काटने हेतु स्टॉल कुर्सी टेबल बैनर आदि लगाया गया। कार्यक्रम का शुभारंभ भव्य एवं आकर्षक हो इसके लिए पूर्व में तैयारी कर लिया गया था। कार्यक्रम में उपस्थित सभी कार्यकर्तागण एक दूसरे को तिलक लगाकर प्रोत्साहित किया। 

No comments