पारा शिक्षक के पार्थिव शरीर नाला पहुंचते ही अंतिम दर्शन हेतु लोगों की लगी भीड़।



नाला (जामताड़ा)---पिछले दिनों सड़क दुर्घटना में घायल हुए पारा शिक्षक का निधन रांची रिम्स में इलाज के दौरान हो गया । मालुम   कि बीते देर रात को पारा शिक्षक सिमंत घोष (45 )का पार्थिव शरीर नाला पहुंचते ही उनके अंतिम दर्शन के लिए काफी संख्या में लोगों की भीड़ जुट गई वहीं इस मार्मिक दुर्घटना से उनके परिजनों का रो -रो कर बुरा हाल है। मालूम हो कि 21 दिसंबर को नाला -दुमका मुख्य मार्ग पर मॉर्निंग वॉक के समय  अज्ञात वाहन से दुर्घटनाग्रस्त हो गई थी उन्हें आनन-फानन में दुर्गापुर ले जाया गया था वहीं उनके और बेहतर इलाज हेतु उन्हें रांची रिम्स में भर्ती किया गया था परंतु 6 दिसंबर को उनका देहांत इलाज के दौरान हो गई। उनके पार्थिव शरीर नाला पहुंचते उनके पार्थिव दर्शन को लेकर परिजनों एवं अन्य गणमान्य लोग दलावड़ पहुंचे और शोक संवेदना व्यक्त की। मालूम हो कि इस पारा शिक्षक के असामयिक निधन से न केवल परिवार बल्कि पूरा प्रखंड क्षेत्र शोकाकुल है। पारा शिक्षक सिमंत घोष अपने पीछे 8 वर्ष का पुत्र एवं 15 वर्षीय पुत्री को छोड़ गए। मालूम हो कि उनका पार्थिव शरीर का अंतिम संस्कार बक्रेश्वर धाम में किया गया। मौके पर पूर्व कृषि मंत्री सत्यानंद झा ,आशीष तिवारी ,विश्वनाथ डोकानिया ,निमाई घोष ,सुधीर कुमार, गौरी सिंह, सलीम जहांगीर ,गुपिन सोरेन, तापस भट्टाचार्य , गुनधर मंडल के अलावे सैकड़ों गणमान्य लोग एवं परिजन मौजूद थे।

No comments