अनुमंडल पदाधिकारी ने चंडावत सिलेंडर फैक्ट्री के प्रबंधन व मजदूर प्रतिनिधि के बीच विवाद को सुलझाने को लेकर की बैठक!



मधुपुर अनुमंडल के मारगोमुंडा थाना अंतगर्त सुग्गापहाड़ी गांव स्थि चंडावत सिलेंडर फैक्ट्री कार्यरत मजदूर व प्रबंधक के बीच विवाद सूलझाने को लेकर सोमवार को अनुमंडल पदाधिकारी योगेन्द्र प्रसाद ने कार्यालय कक्ष में एक बैठक किया। मौके पर एसडीओं को मजदुर यूनियन प्रतिनिधि ने अपनी समस्या बताया।वहीं  फैक्ट्री प्रबंधन ने भी अपना पक्ष को रखा। कारखाना के मजदुरों ने बताया कि दैनिक मजदूरी में स्थानीय लोगों को काम नहीं दिया जा रहा हें।बाहरी लोग को काम पर रखा गया हैं।काम मांगने पर केस में फंसाने की धमकी दी जाती है।कहा कि वे लोग सिलेंडर फैक्ट्री में विगत 15-20 वर्षों से काम करते आ रहे हैं । तथा वे सभी मजदूर स्थानीय हैं। पिछले माह से स्थानीय मजदूरों को काम से हटा कर बाहरी मजदूरों को काम दे दिया है।कहा कि काम से निकाले गए मजदुर को अविलंब पूनः काम पर रखा जाए दैनिक मजदुर स्थायीकरण, सरकार द्वारा निर्धारित मजदुरी का बैंक खाता से भुगतान, मजदुरों की सूरक्षा की गारंटी, यूनीफार्म, केटिंन सूविधा, परिचय पत्र आदि सूविधा देने की मांग मजदुर प्रतिनिधियों ने एसडीओ से किया।दोनों पक्षों से बातचीत के बाद किसी विषय पर सहमति नहीं बनी।दोबारा 15 जनवरी कारखाना परिषर में प्रबंधन व मजदुरों के बीच बैठक कर समस्या निदान करने का निर्देश एसडीओ ने दिया।मौके पर अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी वशिष्ठ नारायण सिंह सर्किल इंस्पेक्टर रतन कुमार सिंह, पथरोल थाना प्रभारी मनीष कुमार, नप उपाध्यक्ष जियाउल हक, मोबिन शेख, राजु गुप्ता, अजहर अली, इमरान, दिनेश कुमार, पप्पू, नियाज, दिलीप, बबलू विश्वकर्मा समेत कई मजदूर उपस्थित थे ।

 क्या कहते हैं कारखाना प्रबंधक भूपेश अग्रवाल                      ने बताया क कोविड-19 के कारण कारखाना पर बुरा असर पड़ा है । आर्थिक और रोजगार के अभाव में इस बार सिलेंडर मरम्मती का टेंडर नहीं मिला हैं । जिस दिन सिलेंडर मरम्मति का टेंडर मिलेगा ।उसी दिन से सभी स्थानीय मजदूरों को ही काम दिया जाएगा । काम से मजदूरों को निकालने का आरोप बिल्कुल गलत है I

क्या कहते हैं एसडीओ

एसडीओ योगेंद्र प्रसाद ने कहा कि आज की बैठक में वार्ता नहीं हो पाई है । 15 जनवरी को पुनः  कारखाना परिसर में फैक्ट्री प्रबंधन और मजदूरों के बीच एक बैठक बुलाने का निर्देश दिया गया हैं । उस दिन दोनों पक्षों की समस्याओं के सुनने के बाद मामले का  निपटारा करने का प्रयास जाएगा!

No comments