चचरी पुल से होकर यातायात करने को लोग मजबूर, प्रशासन बेखबर।



उधवा/साहिबगंज संवाददाता:-- उधवा प्रखंड क्षेत्र के अन्तर्गत दक्षिण पालशगाछी व माध्य पियारपुर पंचायत को जोड़ने वाली सड़क बदहाल स्थिति में है। जहां सड़क कच्ची है, वहीं दूसरी ओर पुलिया भी निर्माण वर्षों से नही हो रहा है। ऐसे में ग्रामीणों को आवागमन में भारी परेशानी उठानी पड़ती है। यह सडक प्रखंड के पश्चिम व पूर्वी प्राणपुर, दक्षिण व उत्तर पालशगाछी के पियारपुर पंचायत को जोड़ती है। पांचों पंचायत को जोड़ने वाली यह सड़क के मध्य स्तर पर एक नहर हैं जहां वर्षो से बांस-बल्लियों की पुल बनी हुई है जिसमें हर व्यक्ति को आर-पार होने से दस-दस रुपये लगता है। वो भी बांस से बनी पुल पूरी तरह ध्वस्त हैं। राहगीरों को बरसात के दिनों सबसे अधिक प्रभावित होना पड़ता है। ग्रामीण अबूबक्कर सिद्दीकी, दुलाल अहमद, वसीम शेख, नसीम शेख, अलिफ शेख सहित अन्य दर्जनों लोगों का कहना है कि वर्षों से पुल निर्माण और कच्ची सड़क को पक्की सडक में बदलने की आस लगाए बैठे हैं। लेकिन दशकों वर्ष बीतने वाला है उसके बाद भी पुल निर्माण व सड़क मरम्मत कार्य नहीं हो पाया है। लोगों को आवागमन में हो रही परेशानी के कारण मदरसा के द्वारा संचालन इस स्थान पर चचरी पुल बनाया गया था। लेकिन गत वर्ष आई बाढ़ में चचरी पुल भी क्षतिग्रस्त हो गई। इसके कारण लोगों की समस्या अब भी बरकरार है। आवागमन के लिए लोग पगडंडी का सहारा लेकर सड़क पार करते हैं। जबकि वाहनों का परिचालन मुश्किल होता है। बरसात के दौरान पुल के नीचे पानी जमा होने के कारण आवागमन बाधित रहता है।

पुल निर्माण से मिल सकती हैं पांच पंचायत को राहत:

पुल निर्माण को लेकर कई बार स्थानीय लोग पहल की मांग कर चुके हैं, लेकिन पुल की निर्माण नहीं होने के कारण ग्रामीणों का आक्रोश बढ़ने लगा है। पांच पंचायत को सीधे जोडने वाली इस सड़क के पक्कीकरण व पुल के निर्माण से क्षेत्र के बडी आबादी को लाभ पहुंचेगा। लोगों को लंबी दूरी तय करने से भी मुक्ति मिल जाएगी। वहीं पांचो पंचायतों के लोगों पियारपुर बजार पहुचने में ग्रामीणों को मुश्किलों से निजात मिल जाएगा।


No comments