देवघर जिले को मॉडल बनाने में आप सभी का सहयोग आपेक्षित:- उपायुक्त



उपायुक्त सह जिला दंडाधिकारी  मंजुनाथ भजंत्री की अध्यक्षता में स्वच्छ सर्वेक्षण 2021 कार्यक्रम का आयोजन नगर निगम कार्यालय परिसर में किया गया। इस दौरान उपायुक्त ने सभी को संबोधित करते हुए कहा कि बाबा बैद्यनाथ की नगरी देवघर को स्वच्छ और सुंदर बनाने में आप सभी जिलावासियों का सहयोगी आपेक्षित है, ताकि जिले को मॉडल जिला बनाया जा सके। आज हम सबों का जिला बाह्य शौचमुक्त घोषित है। ऐसे में आवश्यक है कि लोगों द्वारा स्वच्छता संबंधी अच्छी आदतों को अपनाया जाय एवं लोग शौच हेतु हमेशा शौचालय का हीं प्रयोग करें। वर्तमान में हम सभी को चाहिये कि हम अपने आस-पास के लोगो को साफ-सफाई शौचालय के प्रयोग एवं उसके साफ-सफाई हेतु प्रेरित करें। यदि हम ऐसा करते हैं तभी जाकर स्वच्छता को बल मिलेगा एवं सही मायने में स्वच्छ, सुंदर देवघर का स्लोगन चरितार्थ होगा। 

इसके अलावे उपायुक्त  मंजुनाथ भजंत्री ने कहा कि देशभर के शहरों में स्वच्छता सर्वेक्षण 2021का आयोजन किया गया है। इस सर्वेक्षण के जरिए शहरों में स्वच्छता और साफ सफाई को लेकर कुल चार हजार अंक निर्धारित किए गए हैं, जिनको सर्वे के लिए आने वाली टीम विभिन्न पहलुओं का गहनता से निरीक्षण करते अंक प्रदान करेगी। ऐसे में आप सभी के सहयोग से देवघर जिला को स्वच्छता के मामले में नंबर एक बनाया जा सकता है। इसके लिए नगर निगम के अधिकारी स्वच्छता सर्वे में सभी बिंदुओं का अध्ययन करते हुए स्वच्छता से जुड़े कार्यों को पूरा करना सुनिश्चित करें। वर्तमान में जागरुकता अभियान के माध्यम से प्रत्येक व्यक्ति को सूखा और गीला कूड़ा करकट के लिए अलग-अलग डस्टबिन का प्रयोग करने के लिए प्रोत्साहित किया जाए। साथ ही उन्होंने शहरों में पार्कों की साफ सफाई कराने की दिशा में गंभीरता से कार्य करते सफाई व्यवस्था सुचारू रूप से जारी रखने की बात कही। इसके अलावा शहरों में मिठाई के प्रतिष्ठानों के आसपास किसी प्रकार की गंदगी हो, इसके लिए स्वच्छता के प्रति जबावदेही सुनिश्चित की जाए। इसके अलावा मुख्य बाजार और वाणिज्यक स्थलों पर रात्रि के समय सफाई करानेे के निर्देश भी दिए। 

■ कार्यक्रम के दौरान उपायुक्त ने सभी को दिलाई स्वच्छता शपथ....

कार्यक्रम के दौरान उपायुक्त ने मंजुनाथ भजंत्री ने सभी को स्वच्छता शपथ दिलाते हुए कहा कि महात्मा गांधी ने जिस भारत का सपना देखा था उसमें सिर्फ राजनैतिक आजादी ही नहीं थी , बल्कि एक स्वच्छ एवं विकसित देश की कल्पना भी थी। महात्मा गांधी ने गुलामी की जंजीरों को तोड़कर माँ भारती को आजाद कराया। अब हमारा कर्तव्य है कि गंदगी को दूर करके भारत माता की सेवा करें। मैं शपथ लेता हूं कि मैं स्वयं स्वच्छता के प्रति सजग रहूंगा और उसके लिए समय दूंगा। हर वर्ष 100 घंटे यानी हर सप्ताह 2 घंटे श्रमदान करके स्वच्छता के इस संकल्प को चरितार्थ करूंगा। मैं न गंदगी करूंगा न किसी और को करने दूंगा। सबसे पहले मैं स्वयं से, मेरे परिवार से, मेरे मुहल्ले से, मेरे गांव से एवं मेरे कार्यस्थल से शुरुआत करुंगा। मैं यह मानता हूं कि दुनिया के जो भी देश स्वच्छ दिखते हैं उसका कारण यह है कि वहां के नागरिक गंदगी नहीं करते और न ही होने देते हैं। इस विचार के साथ मैं गांव - गांव और गली - गली स्वच्छ भारत मिशन का प्रचार करुंगा। मैं आज जो शपथ ले रहा हूं , वह अन्य 100 व्यक्तियों से भी करवाऊंगा। वे भी मेरी तरह स्वच्छता के लिए 100 घंटे दें, इसके लिए प्रयास करूंगा। मुझे मालूम है कि स्वच्छता की तरफ बढ़ाया गया मेरा एक कदम पूरे भारत देश को स्वच्छ बनाने में मदद करेगा।

इसके अलावा कार्यक्रम के दौरान उपायुक्त  मंजुनाथ भजंत्री व नगर आयुक्त  शैलेंद्र कुमार लाल द्वारा संयुक्त रूप से स्वच्छता रैली को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया गया। इस दौरान नगर निगम कार्यालय से हदहदीया चौक वी.आई.पी चौक, टॉवर चौक होते हुए शिवलोक परिसर में स्वच्छता रैली का समापन किया गया। जागरूकता रैली के दौरान लोगो को स्वच्छता हेतु जागरूक करने के उद्देश्य से बैनर, पंपलेट का वितरण किया गया।

इस दौरान उपरोक्त के अलावे संबंधित विभाग के अधिकारी, कर्मी, समाजसेवी, सफाई मित्र आदि उपस्थित थे।

No comments