कोविड-19 टीकाकरण हेतु जिला स्तरीय टास्क फोर्स की बैठक संपन्न



साहिबगंज संवाददाता:-- समाहरणालय स्थित सभागार में मंगलवार को उपायुक्त राम निवास यादव की अध्यक्षता में सभी प्रखण्ड चिकित्सा प्रभार पदाधिकारी,प्रखण्ड विकास पदाधिकारी एवं संबंधित पदाधिकारियों के साथ कोविड-19 टीकाकरण एवं पल्स पोलियो से संबंधित ज़िला टास्क फ़ोर्स की बैठक आयोजित की गई।बैठक में  उपायुक्त ने कहा कि प्रधानमंत्री ने सभी राज्य के मुख्यमंत्रियों से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बातचीत की. जिसमें उन्होंने छोटे-छोटे बिंदुओं को विस्तार पूर्वक बताते हुए राज्य के सभी मुख्यमंत्री से कहा कि पूरे देश में सबसे पहले स्वास्थ्य कर्मियों को कोविड-19 टीकाकरण किया जाएगा। जिसके अंतर्गत वैक्सीन की पहली खेप रवाना हो चुकी है एवं प्राथमिकता के आधार पर हमारे फ्रंटलाइन स्वास्थ्य कर्मियों को यह वैक्सीन 16 जनवरी से लगना प्रारंभ हो जाएगा।प्रधानमंत्री ने सभी राज्यों के मुख्यमंत्री से मुखातिब होते हुए कहा की प्रथम खेप में देश के 3 करोड़ स्वास्थ्य कर्मियों को कोविड-19 का टीका दिया जाएगा।

उपायुक्त ने बतायी पूरी प्रक्रिया:

इस दौरान उपायुक्त  यादव ने सभी प्रखंड विकास पदाधिकारी एवं सभी प्रखंड चिकित्सा प्रभारी पदाधिकारी को धन्यवाद देते हुए कहा कि यह जिले के लिए गौरव की बात है की तय समय पर सभी 7 सेशन साइट्स का स्थल चिन्हित कर तैयारी पूर्ण कर ली गई है।आगे उन्होंने बताया कि 16 जनवरी से शुरू हो रहे है कोविड-19 वैक्सीनेशन में 7 प्रखंड को चिन्हित किया गया है जिसमें से साहिबगंज प्रखंड के सदर अस्पताल, बरहेट सीएचसी, बरहरवा में बालिका विद्यालय, तालझारी प्रखंड के पुराने प्रखंड कार्यालय, राजमहल सीएचसी,पतना सीएचसी तथा बोरियो सीएचसी में प्रथम खेप का टीकाकरण हमारे फ्रंटलाइन स्वास्थ्य कर्मियों को दिया जाएगा।

उन्होंने बताया की कोविड टीकाकरण के लिए सत्र स्थल पर विशेष व्यवस्था रहेगी। सत्र स्थल पर टीकाकरण के लिए तीन कक्ष बनाए जाएंगे। प्रथम कक्ष लाभार्थियों हेतु वेटिग एरिया के लिए, दूसरा कक्ष टीकाकरण के लिए और तीसरा कक्ष टीकाकरण के पश्चात 30 मिनट तक लाभार्थियों की निगरानी के लिए उपलब्ध रहेगा। सभी सत्र स्थल पर लाभार्थियों के लिए पर्याप्त मात्रा में बेड, कुर्सी या बेंच इत्यादि उपलब्ध होंगे।इसी संबंध में अग्रसर जानकारी देते हुए उन्होंने बताया कि स्वास्थ्य कर्मियों का रजिस्ट्रेशन पूर्ण कर लिया जा चुका है अब यह स्वास्थ्य कर्मी सर्वप्रथम अपने संबंधित टीकाकरण स्थल पर जाएंगे जहां पर उनके दस्तावेजों को वेरीफाई किया जाएगा।

 इन दस्तावेजों में आधार कार्ड के अलावे वोटर आईडी कार्ड पैन कार्ड आदि की जांच की जाएगी एवं संबंधित व्यक्ति की जांच की जाएगी।  इसके उपरांत उन्हें प्रतीक्षा कक्ष में भेजा जाएगा जहां पोर्टल के आधार पर दिए गए नंबर से उनकी पहचान एवं मिलान किया जाएगा तत्पश्चात उन्हें टीकाकरण रूम में भेजा जाएगा जहां उन्हें कोविड-19 का टीका लगाया जाएगा इसके बाद संबंधित व्यक्ति को ऑब्जर्वेशन रूम में 30 मिनट की अवधि के लिए रखा जाएगा एवं उन्हें रिलीज कर दिया जाएगा।  इसके बाद टीकाकरण हुए व्यक्ति को एसएमएस के जरिए सूचित कर दिया जाएगा कि उन्हें 28 दिनों के बाद पुनः दूसरे चरण के टीकाकरण के लिए आना है।

उपायुक्त ने दिए सम्बन्धित निर्देश:

उपायुक्त  यादव ने सभी प्रखंड चिकित्सा प्रसार पदाधिकारी एवं सभी प्रखंड विकास पदाधिकारी को संबोधित करते हुए कहा यह हमारे जिले के लिए अति आवश्यक है कि टीकाकरण सफल हो एवं इसकी सफलता की पूर्णता जिम्मेदारी आप सभी के आपसी समन्वय पर आधारित है।इसके लिए हमें एक टीम की तरह कार्य करना है तथा 16 जनवरी से शुरू हो रहा है प्रथम चरण के टीकाकरण के लिए आप सभी संबंधित सेशन साइट पर जरूरी व्यवस्थाएं दुरुस्त कर ले एवं वैक्सीनेटर का प्रशिक्षण सुनिश्चित करते हुए उनका फॉलोअप करते रहे। इस दौरान उन्होंने सभी प्रखंड में कंट्रोल रूम बनाने का निर्देश दिया एवं कहा संबंधित पदाधिकारी वैक्सीनेटर से जुड़े रहेंगे।बैठक के दौरान उपायुक्त ने पूर्व में किए गए ड्राई रन की समीक्षा की एवं अभी तक हुए वैक्सीनेटर के प्रशिक्षण की जानकारी प्राप्त की इसके अलावा उन्होंने संबंधित पदाधिकारियों को सेशन साइट में कोविड-19 के जरूरी मानकों को ध्यान में रखते हुए सभी व्यवस्थाएं यथा मास्क सैनिटाइजर आदि की सुविधा तय समय पर पूर्ण करने का भी निर्देश दिया।

4200 स्वास्थ्य कर्मियों को लगेगा प्रथम चरण का टीका:

बैठक के दौरान बताया गया कि 16 जनवरी से शुरू हो रहे प्रथम चरण के टीकाकरण में जिले के 4200 स्वास्थ्य कर्मियों को प्राथमिकता के आधार पर कोविड-19 का टीका दिया जाएगा।

इसी संबंध में आगे बताया गया कि प्रथम चरण के टीकाकरण के लिए सभी स्वास्थ्य कर्मियों का डेटाबेस तैयार कर लिया गया है एवं उनका रजिस्ट्रेशन भी कर दिया गया है इस आधार पर सभी को एसएमएस के जरिए सूचित कर दिया जाएगा कि वह अपने किस टीकाकरण स्थल पर जाएंगे एवं कोविड-19 का टीका लेंगे। इसके बाद 28 दिनों के अंतराल में पुनः उन्हें एक एसएमएस प्राप्त होगा  जिसके आधार पर टीकाकरण के 28 दिन के बाद उन्हें पुनः कोविड-19 का टीका लेना होगा।बैठक के में उप विकास आयुक्त प्रभात कुमार बरदियार,सिविल सर्जन डॉक्टर डीएन सिंह, एस एम ओ डब्ल्यू एच ओ डॉ मुक्तेश सभी प्रखंड विकास पदाधिकारी, सभी चिकित्सा प्रसार पदाधिकारी, सभी सीडीपीओ एवं अन्य उपस्थित थे।

No comments