ऑनलाइन बैठक के माध्यम से उपायुक्त ने सभी प्रखण्डों के प्रखण्ड विकास पदाधिकारी व अंचलाधिकारी को दिए आवश्यक दिशा-निर्देशः-उपायुक्त



उपायुक्त-सह-जिला दंडाधिकारी  मंजूनाथ भजंत्री की अध्यक्षता में ऑनलाइन बैठक का आयोजन समाहरणालय सभागार से किया गया। इस दौरान उपायुक्त ने जिले के सभी प्रखण्ड विकास पदाधिकारी व अंचलाधिकारियों के साथ बैठक करते हुए कहा कि माननीय मुख्यमंत्री जी की प्राथमिकता है कि वैसे सभी लाभूक वनाधिकार पट्टा पाने की अर्हता रखते हैं, उन्हें उनका हक दिया जाय। ऐसे में  अपने-अपने प्रखण्डों में कम से कम 200 योग्य लाभुकों को चयनित करें, ताकि उन्हें वनाधिकार पट्टा दिया जा सके। इसके अलावे बैठक के दौरान उपायुक्त श्री मंजूनाथ भजंत्री द्वारा बतलाया गया कि अनुसूचित जनजाति और अन्य परंपरागत वन निवासी वन अधिकारों की मान्यता अधिनियम काफी महत्वपूर्ण है। इस कानून में जो लोग वन भूमि पर स्वयं खेती कर जीविकोपार्जन करते आ रहे हैं, उन्हें उस वन भूमि का पट्टा देने के साथ जंगल पर लोगों को सामुदायिक अधिकार देने का प्रावधान है। जिसके अंतर्गत लघु वन पदार्थ का मालिकाना हक भी है। दावेदार जीविकोपार्जन के लिए जितने वन क्षेत्र पर निर्भर हैं उतने का पट्टा दिया जाएगा। जानकारी देते हुए कहा कि वन अधिकार अधिनियम की धारा 4-3 के अनुसार वन भूमि का पट्टा के लिए अनुसूचित जनजाति एवं अन्य परंपरागत वन निवासियों को वन भूमि पर 13 दिसंबर 2005 से पहले से कब्जा होना अनिवार्य है। अन्य परंपरागत वन निवासियों को वन क्षेत्र में 13 दिसंबर 2005 से पहले तीन पीढ़ी से रहनेवाले का होना अनिवार्य है।  इसके अलावा बैठक के दौरान उपायुक्त द्वारा जानकारी दी गयी कि माननीय मुख्यमंत्री  हेमन्त सोरेन द्वारा राँची में सभी चयनित लाभूकों को वन अधिकार पट्टा दिया जाना है। ऐसे में कार्य की अहमियत को देखते हुए प्राथमिकता के आधार पर अपने-अपने प्रखण्डों से 200 लाभुकों को चयनित करते हुए उपायुक्त कार्यालय को समर्पित करें। बैठक के पश्चात उपायुक्त ने जिला सूचना विज्ञान पदाधिकारी को निदेशित किया कि कोरोनाकाल में ऑनलाइन बैठक का आयोजन ही विशेषकर किया जायेगा। ऐसे में ये सुनिश्चित कर ले कि इंटरनेट की व्यवस्था के साथ सभी प्रखण्डों व अंचलों को एनआईसी के माध्यम से जोड़ते हुए ऑनलाइन बैठक की व्यवस्था को सुदृढ़ करके रखें।  मौके पर उपरोक्त के अलावे सामान्य शाखा पदाधिकारी सुश्री मीनाक्षी भगत, जिला सूचना विज्ञान पदाधिकारी  एबी राॅय, सीएससी मैनेजर सत्यम प्रकाश आदि उपस्थित थे।

No comments